आईपीएल-11 : राशिद का हरफनमौला प्रदर्शन, हैदराबाद फाइनल में (राउंडअप)     |       कर्नाटक विधानसभा में मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने साबित किया बहुमत, BJP का वॉकआउट     |       2019 में अमेठी या रायबरेली हम जीतेंगे, SP-BSP साथ आए तो मिलेगी चुनौती: अमित शाह     |       निपाह का रहस्य गहराया: रिपोर्ट्स में खुलासा- वायरस फैलने की मुख्य वजह चमगादड़ नहीं     |       CBSE 12th Results 2018: सीबीएसई 12वीं के नतीजे आज होंगे जारी, cbseresults.nic.in पर देखें रिजल्ट     |       समिट रद्द करने के दूसरे दिन ट्रम्प ने जताई किम जोंग के साथ जल्द मुलाकात की उम्मीद, उत्तर कोरिया की तारीफ की     |       रोहिंग्या मुद्दे पर बांग्लादेश ने मांगी भारत से मदद     |       मेजर गोगोई की मुश्किलें बढ़ी, सेना ने जारी किया कोर्ट आफ इन्क्वायरी का आदेश     |       अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट की रवीश कुमार को जान से मारने की धमकी वाली खबर, एलजी से पूछा- है दम इस पर एक्‍शन लेने का     |       देश में पानी और तेल को लेकर आग     |       सीमा पर गोलीबारी व घुसपैठ बंद करे पाकिस्तान : महबूबा     |       नौतपा : पहले दिन मौसम के तेवर पड़े नरम, हल्की बारिश के बाद बढ़ी उमस     |       लेडी ट्यूशन टीचर ने नाबालिग छात्र से बनाए शारीरिक संबंध, खुलासा होने पर हुआ ये अंजाम     |       दिल्ली पुलिस ने सिसोदिया से 3 घंटे में पूछे 100 सवाल, कई के नहीं मिले जवाब     |       बिहार : 5 साल पहले महाबोधि मंदिर के पास हुए बम विस्फोट मामले में सभी 5 आरोपी दोषी करार     |       अपडेट.. सैन्य शिविर पर ग्रेनेड हमला, दो सैन्यकर्मी घायल     |       घर आने की योजना रद्दकर ड्यूटी पर लौट गया था शहीद     |       पाक शांति चाहता है तो आतंकवादी भेजना बंद करे: जनरल रावत     |       वायरल सच: हिंदू लड़की को मुस्लिम लड़के से अलग करने में गुंडागर्दी का सच     |       बंगले को लेकर बदला मायावती का लहजा, देश में शांति व्यवस्था प्रभावित होने की दी चेतावनी     |      

गपशप


कांग्रेस के नए रणनीतिकारों में शुमार हुए प्रणब दा

राजनैतिक पर्यवेक्षक तो इस कड़ी में नेहरू, इंदिरा, संजय, राजीव और नरसिंहा राव को भी जोड़ने से नहीं चूकते। जब से कांग्रेस की बागडोर सोनिया गांधी के हाथों में आई उनकी सलाहकार मंडली में ईसाई और मुस्लिम नेताओं की तूती बोलती रही।


pranab-da-among-new-congress-strategists

कांग्रेस की गिरती साख को परवान चढ़ाने के लिए पार्टी को प्रणब मुखर्जी के तौर पर एक नया रणनीतिकार मिल गया है। वैसे यह बात अब किसी से छुपी नहीं रह गई है कि प्रणब दा की राहुल के मुकाबले प्रियंका से कहीं गहरी छनती है। प्रणब दा की हालिया रिलीज पुस्तक में भी इस बात का कहीं शिद्दत से जिक्र है कि कैसे जब यूपीए सरकार ने शंकराचार्य जयेंद्र सरस्वती को गिरफ्तार किया था तो प्रणब दा इस बात को लेकर अपसेट हो गए थे। प्रणब दा इसी थ्योरी को लेकर फिर से सामने आए हैं कि कांग्रेस के अभ्युदय से लेकर यूपीए सरकार बनने तक कांग्रेस नेतृत्व का एक वर्ग ’सॉफ्ट हिंदुत्व’ को पोषित करता रहा है और ऐसे में हिंदुवादी नेताओं की कांग्रेस में एक पुरानी परंपरा रही है जो मदन मोहन मालवीय, कमलापति त्रिपाठी से लेकर नरसिंहा राव तक में देखी जा सकती है।

राजनैतिक पर्यवेक्षक तो इस कड़ी में नेहरू, इंदिरा, संजय, राजीव और नरसिंहा राव को भी जोड़ने से नहीं चूकते। जब से कांग्रेस की बागडोर सोनिया गांधी के हाथों में आई उनकी सलाहकार मंडली में ईसाई और मुस्लिम नेताओं की तूती बोलती रही। यह सोनिया इफेक्ट ही माना जा सकता है जब उनके वफादार मनमोहन सिंह ने प्रधानमंत्री रहते एक अजीबोगरीब बयान दे दिया कि प्राकृतिक संसाधनों पर देश के मुसलमानों का पहला हक है। कांग्रेस की लोकसभा में हुई करारी हार को पारिभाषित करते एंटोनी कमेटी ने भी कमोबेश यही बात कही है कि कांग्रेस की छवि एक हिंदू विरोधी पार्टी की बन गई है।

सो, भले ही कांग्रेस के मौजूदा तारणहार राहुल गांधी प्रणब दा के सीधे संपर्क में ना हों पर उनके कुछ नजदीकी सांसदों का नियमित तौर पर प्रणब दा से मिलना-जुलना हो रहा है, जो दादा का संवाद राहुल तक पहुंचा रहे हैं। शायद यह उस्ताद प्रणब की नसीहतों की परिणति थी कि राहुल गांधी अब मंदिरों में शीश नवाने पहुंच रहे हैं, अकेले गुजरात में राहुल दर्जन भर मंदिरों में जा चुके हैं। यानी कांग्रेस ने सॉफ्ट हिंदुत्व के जिस स्लॉट को पिछले 12-13 सालों में अनदेखा कर दिया था, अब उसकी भरपाई संभव है।

advertisement