ममता की बंगाल सरकार और चंद्र बाबू की आंध्र सरकार ने CBI को जांच से रोका     |       लखनऊ में रेलमंत्री पीयूष गोयल की टिप्पणी से नाराज कर्मचारियों का हंगामा     |       पटना में उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी RLSP की बैठक आज, बड़ी घोषणा की अटकलें...     |       NDTV से बोलीं मायावती, न BJP के साथ जाएंगे, न कांग्रेस के साथ, एक सांपनाथ, एक नागनाथ     |       पंजाब में दिखा 12 लाख का इनामी आतंकी, जम्मू-कश्मीर सहित दोनों राज्यों में हाई अलर्ट     |       दिल्ली / 13 दिन बंद रहेगा आईजीआई एयरपोर्ट का एक रनवे, 86% तक बढ़ा फ्लाइट्स का किराया     |       सीबाआई में घमासान: सीवीसी ने कहा, कुछ आरोपों पर जांच की जरूरत     |       सबरीमाला / मंदिर के पट खोले गए, सुप्रीम कोर्ट का फैसला लागू करने के लिए वक्त मांगेगा प्रबंधन     |       तमिलनाडु में गाजा तूफान से 13 लोगों की मौत, PM ने ली जानकारी     |       मालदीव में आज पीएम मोदी की यात्रा से भारत को मिला पैर जमाने का मौका     |       आरबीआई के अहम फैसलों में बड़ी भागीदारी चाहती है सरकार     |       मोदी चुनाव वाले राज्यों में संबोधित कर सकते हैं करीब 25 रैलियों को     |       मेक इन इंडिया की सौगात, देश की पहली T-18 ट्रेन ट्रायल के लिए पहुंची मुरादबाद     |       डिप्टी सीएम केशव मौर्य ने कोर्ट में किया समर्पण, मिली जमानत     |       आपत्तिजनक कंटैंट को यूजर्स के रिपोर्ट करने से पहले ही हटा देगा फेसबुक     |       वाराणसी की चर्चित लेडी डॉक्टर ने जहर का इंजेक्शन लगा दी जान, सुसाइड नोट पढ़ कर हर कोई हैरान     |       सरेंडर नहीं करने पर बिहार पुलिस जब्त कर सकती है मंजू वर्मा की संपत्ति : DGP     |       MP चुनावः वरिष्ठ BJP नेता ने कहा- चुनाव नहीं होते, तो पार्टी MLA के तोड़ देता दांत     |       यूपी के बाहुबली विधायक राजा भैया ने की पार्टी बनाने की घोषणा, आयोग को भेजे तीन नाम     |       अब आंख मारकर सपना चौधरी ने ढाया कहर, VIDEO देखकर छूटेंगे पसीने!     |      

साहित्य/संस्कृति


‘द्रौपदी’ को नए सिरे से रचने वाली प्रतिभा

उड़िया से बाहर का रचना संसार प्रतिभा राय के अक्षर हौसले से ज्यादा करीब से तब परिचित हुआ, जब उनका उपन्यास आया- 'द्रौपदी'


pratibha-roy-draupadi-novel-gyanpeeth-award

प्रतिभा राय भारतीय साहित्यकारों की उस पीढ़ी की हैं, जिन्होंने गुलाम नहीं बल्कि स्वतंत्र भारत में अपनी आंखें खोलीं। लिहाजा, अपनी अक्षर विरासत को आगे बढ़ाने के लिए उन्हें स्वतंत्र लीक गढ़ने का हौसला दिखाया। उड़िया से बाहर का रचना संसार उनके इस हौसले से ज्यादा करीब से तब परिचित हुआ, जब उनका उपन्यास आया- 'द्रौपदी'। भारतीय पौराणिक चरित्रों को लेकर नवजागरण काल से 'सुधारवादी साहित्य' लिखा जा रहा है, जिसमें ज्यादा संख्या काव्य कृतियों की है। पर कथा क्षेत्र में इस तरह का कोई बड़ा प्रयोग नहीं हुआ। इस कमी को पूरा करती हैं प्रतिभा राय।

साहित्य में स्त्री
समाकालीन जीवन के गठन और चिंताओं को लेकर एक बात इधर खूब कही जाती है कि साहित्य के मौजूदा सरोकारों पर खरा उतरने के लिए अब 'बिंबात्मक' औजार से ज्यादा जरूरी  है- 'कथात्मक हस्तक्षेप'। मौजूदा भारतीय समाज में स्त्रियों की स्थिति को लेकर जारी दुराग्रहों पर हमला बोलने के लिए राय ने इस दरकार को समझा। 'द्रौपदी' में वह विधवाओं के पुनर्विवाह को लेकर सामाजिक नजरिया, पति-पत्नी संबंध और स्त्री प्रेम को लेकर काफी ठोस धरातल पर संवाद करती हैं। इस संवाद में वह एक तरफ जहां पुरुषवादी आग्रहों को चुनौती देती हैं, वहीं भारतीय स्त्री के गृहस्थ जीवन को रचने वाली विसंगतिपूर्ण स्थितियों पर भी वह संवेदनात्मक सवाल खड़ी करती हैं।

'द्रौपदी' उपन्यास
बहरहाल, 'द्रौपदी' उपन्यास की रचयिता का रचना संसार काफी विषद और विविधतापूर्ण है। कथा साहित्य की विविध विधाओं के साथ कविता के क्षेत्र में भी वह अधिकारपूर्वक दाखिल हुई हैं। यही कारण है कि उन्हें भारतीय साहित्य क्षेत्र के सर्वाधिक सम्मानित आैर मान्य पुरस्कार ज्ञानपीठ के लिए भी चुना गया तो निर्णय प्रक्रिया की तटस्थता पर भी कोई सवाल नहीं उठा। हां, यह जरूर कहा जा सकता है कि सुप्रसिद्ध उड़िया लेखक डॉ. सीताकांत महापात्र चूंकि ज्ञानपीठ चयन समिति के अध्यक्ष थे, इसलिए प्रतिभा राय के कृतित्व पर विचार करने और सर्वसम्मत निर्णय लेने में सहुलियत हुई होगी।

वैसे प्रतिभा राय को इससे पूर्व साहित्य अकादमी और भारतीय ज्ञानपीठ का ही एक और महत्वपूर्ण पुरस्कार मूर्तिदेवी सम्मान मिल चुका है। लिहाजा उनके साहित्य को नए सिरे अनुमोदित होने की जरूरत नहीं है।

 

 

 

advertisement

  • संबंधित खबरें