दिल्ली में नामी फैशन डिजाइनर की हत्या से सनसनी, नौकर भी मृत मिला घर में     |       राजस्थान BJP की दूसरी लिस्ट: ज्ञानदेव आहूजा समेत 15 MLA, 3 मंत्रियों के टिकट कटे     |       वायुसेना ने सुप्रीम कोर्ट में कहा- राफेल चाहिए, हमें इसकी जरूरत है     |       100 km/h की रफ्तार से तूफान गाजा तमिलनाडु में आज देगा दस्तक     |       इकबाल अंसारी बोले, 'डरे हैं मुसलमान, 25 से पहले नहीं बढ़ी सुरक्षा तो छोड़ देंगे अयोध्या'     |       दिल्ली के सिग्नेचर ब्रिज पर सेल्फी के लिए होड़ के बाद निर्वस्त्र होने का वीडियो वायरल     |       ट्रंप के मना करने के बाद शीर्ष अफ्रीकी नेता हो सकते हैं गणतंत्र दिवस कार्यक्रम के मुख्‍य अतिथि     |       देवेंद्र फडणवीस की सबसे बड़ी मुश्किल खत्म, मराठा आरक्षण का रास्ता साफ     |       केंद्र ने लौटाया पश्चिम बंगाल का नाम बदलने का प्रस्ताव, ममता नाराज     |       सिंगापुर : PM मोदी के दौरे का दूसरा दिन, आसियान सम्मेलन में होंगे शामिल     |       चौटाला परिवार की कलह गहराई, छोटे भाई का बड़े भाई पर प्रहार     |       इसरो / जीसैट-29 का सफल प्रक्षेपण, 2020 तक गगनयान के तहत पहला मानव रहित मिशन शुरू होगा     |       सबरीमाला मंदिर: आज रात एंट्री करेंगी तृप्ती देसाई, राहुल ईश्वर बोले- देख लेंगे     |       राम के इतिहास के दर्शन कराने निकली रामायण एक्सप्रेस में सवार हुए जिले के 35 यात्री     |       सेल्फी के चक्कर में युवक ने कोबरा को गले में लपेटा, पल भर में गई जान     |       बयान से पलटे शाहिद आफरीदी, कहा- कश्मीर में भारत कर रहा जुल्म     |       संसद का शीतकालीन सत्र 11 दिसंबर से, क्या राम मंदिर पर कानून लाएगी मोदी सरकार?     |       84 के दंगों में दो दोषी करार, सजा पर फैसला आज     |       पिस्टल लिए बदमाश देखे, फिर भी नहीं की पुलिस को कॉल     |       बिहार में आज पूसा व NIT के दीक्षांत समारोह में शिरकत करेंगे राष्ट्रपति, इंतजार जारी     |      

राज्य


राष्ट्रपति ने कहा- सरकार 2022 तक 90 फीसदी घरों में जल आपूर्ति के लिए प्रतिबध्द

विज्ञान भवन में मंगलवार को आयोजित इंडिया वॉटर वीक में उन्होंने कहा कि यह एक पावन प्रतिबद्धता है। सरकार ने 2022 तक सभी ग्रामीण क्षेत्रों में पीने योग्य पानी उपलब्ध कराने के लिए रणनीतिक योजना बनाई है।


president-ram-nath-kovind-addressed-india-water-week-2017

नई दिल्लीः सरकार 2022 तक 90 फीसदी भारतीय ग्रामीण घरों में पाइपलाइन से पानी की आपूर्ति करने के लिए प्रतिबद्ध है। पानी की उपलब्धता मानवा गरिमा का पर्याय है और 600,000 गांवों और शहरी इलाकों में रह रहे लोगों को साफ पानी उपलब्ध कराना सरकार के लिए सिर्फ एक परियोजना नहीं है। यह बातें राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने इंडिया वॉटर वीक 2017 के उद्घाटन समारोह में कहीं।

विज्ञान भवन में मंगलवार को आयोजित इंडिया वॉटर वीक में उन्होंने कहा कि यह एक पावन प्रतिबद्धता है। सरकार ने 2022 तक सभी ग्रामीण क्षेत्रों में पीने योग्य पानी उपलब्ध कराने के लिए रणनीतिक योजना बनाई है। 2022 तक 90 फीसदी ग्रामीण आवासों में पाइप से पानी की आपूर्ति उपलब्ध कराने की भी योजना है। राष्ट्रपति ने कहा कि पानी अर्थव्यवस्था, पारिस्थितिकी और मानव जीवन के लिए जरूरी है। पानी की कमी का मुद्दा जलवायु परिवर्तन और पर्यावरणीय चिंताओं की वजह से अधिक जटिल हो गया है।

राष्ट्रपति कोंविंद ने कहा कि पानी का अधिक बेहतर और उचित इस्तेमाल भारतीय कृषि और उद्योग दोनों के लिए चुनौती है। इसके लिए हमारे गांवों और शहरों में नए मानदंडों के निर्माण की जरूरत है। मौजूदा समय में भारत में 80 फीसदी पानी का इस्तेमाल कृषि में और सिर्फ 15 फीसदी का उद्योगों द्वारा होता है। हर साल शहरी भारत से 40 अरब लीटर अपशिष्ट जल उत्पन्न होता है। इसलिए इस अपशिष्ट जल में मौजूद विषाक्त तत्वों को घटाने के लिए प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल करने और फिर इस पानी का इस्तेमाल सिंचाई उद्देश्यों के लिए करने की जरूरत है।

advertisement