100 रुपये के नए नोट का क्या है गुजरात कनेक्शन?     |       तेजस एक्सप्रेस दौड़ने को तैयार, नई दिल्ली-चंडीगढ़ तक चलने वाली इस ट्रेन में हैं खास सुविधाएं     |       मोदी के मंत्री ने क्यों कहा, सोनिया का गणित कमजोर है?     |       कांग्रेस का 'मेरा तिरंगा मेरा गौरव' अभियान कल से होगा शुरू     |       32 किलोमीटर पैदल चलकर पहले दिन ऑफिस समय पर पहुंचा युवक, बॉस ने दिया ये ईनाम (VIDEO)     |       उलमा कौन होते निदा का हुक्का-पानी बंद करने वालेः तनवीर हैदर उसमानी     |       एयरसेल मैक्सिस केस में CBI ने दाखिल की चार्जशीट, चिदंबरम और कार्ति का नाम शामिल     |       ग्रेटर नोएडा हादसा : नौ शव बरामद, पुलिस ने किया पांच लोगों को गिरफ्तार, कई लोग अब भी फंसे     |       बड़ी ख़बर: अब यात्री मोबाइल फोन से खरीद सकते हैं जनरल टिकट     |       राज ठाकरे का BJP पर हमला, इस वजह से भाजपा को चुनावों में मिली जीत, दोबारा सत्ता में नहीं होगी वापसी     |       रेड मारते ही उड़े IT अफसरों के होश, 8 करोड़ कैश, 87 किलो सोना बरामद     |       साउथ दिल्ली के करीब 16000 पेड़ो के कटने पर लगे स्टे को NGT ने 27 जुलाई तक बढ़ाया     |       उत्तराखंड: रोडवेज बस खाई में गिरी, 14 की मौत और 17 यात्री घायल, न्यायिक जांच के आदेश     |       प्रख्यात कवि और गीतकार महाकवि गोपालदास 'नीरज' का निधन     |       पंचकूला हिंसा के 19 आरोपितों को बड़ी राहत, कोर्ट ने हटाई देशद्रोह की धाराएं     |       यूपी में निशाने पर हिंदूवादी नेता? 15 दिन में 2 की हत्या और 2 पर जानलेवा हमला     |       देवरिया जेल में बाहुबली अतीक के बैरक से मिला मोबाइल फोन , दर्ज होगा मुकदमा     |       वीडियो: हवा में टकराए दो विमान, जमीन पर गिरते ही सबकुछ तहस-नहस     |       पिता अरब पति, खुद गोल्डमेडलिस्ट फिजिशियन... फिर भी बन गईं साध्वी... पढ़ें एक रोचक खबर     |       Exclusive: अगस्ता के बिचौलिये की वकील का दावा- सोनिया के खिलाफ गवाही देने का दबाव     |      

राज्य


राजस्थान हाईकोर्ट ने विवादित अध्यादेश पर केंद्र-राज्य को भेजा नोटिस

कोर्ट ने अपने आदेश में अध्यादेश के खिलाफ दायर सभी सात याचिकाएं और जनहित याचिकाओं को भी शामिल किया, जिसमें प्रदेश में कांग्रेस पार्टी के प्रमुख नेता सचिन पायलट द्वारा दायर याचिका भी शामिल है।


rajasthan-high-court-issues-notice-to-center-state-government-on-disputed-ordinance

जयपुरः राजस्थान हाईकोर्ट ने शुक्रवार को वसुंधरा राजे के विवादित अध्यादेश के मद्देनजर केंद्र और राज्य सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। बता दें कि सीएम राजे का यह विवादित अध्यादेश लोकसेवकों को संरक्षण देने वाला है। आपराधिक कानून अध्यादेश 2017, सितंबर में लागू किया गया था। हाईकोर्ट ने सरकार को जवाब देने के लिए एक महीने का समय दिया है। मामले की अगली सुनवाई 27 नवंबर को होनी है।

कोर्ट ने अपने आदेश में अध्यादेश के खिलाफ दायर सभी सात याचिकाएं और जनहित याचिकाओं को भी शामिल किया, जिसमें प्रदेश में कांग्रेस पार्टी के प्रमुख नेता सचिन पायलट द्वारा दायर याचिका भी शामिल है। सीएम वसुंधरा राजे के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी ने सोमवार को तमाम आलोचनाओं को दककिनार कर राजस्थान विधानसभा में यह विधेयक पेश किया था।

हालांकि यह विधेयक मौजूदा या सेवानिवृत न्यायधीश, दंडाधिकारी और लोकसेवकों के खिलाफ उनके अधिकारिक कर्तव्यों के निर्वहन के दौरान किए गए कार्य के संबंध में न्यायालय को जांच के आदेश देने से रोकती है। इसके अलावा कोई भी जांच एजेंसी इन लोगों के खिलाफ अभियोजन पक्ष की मंजूरी के निर्देश के बिना जांच नहीं कर सकती। वहीं अनुमोदन पदाधिकारी को प्रस्ताव प्राप्ति की तारीख के 180 दिन के अंदर यह निर्णय लेना होगा। विधेयक में यह भी प्रावधान है कि तय समय सीमा के अंदर निर्णय नहीं लेने पर मंजूरी को स्वीकृत माना जाएगा।

विधेयक के अनुसार जबतक जांच की मंजूरी नहीं दी जाती है तबतक किसी भी न्यायधीश, दंडाधिकारी या लोकसेवकों के नाम, पता, फोटो, परिवारिक जानकारी और पहचान संबंधी कोई भी जानकारी न ही छापा सकता है और ना ही उजागर किया जा सकता है। प्रावधानों का उल्लंघन करने वालों को दो वर्ष की कारावास और जुमार्ने की सजा दी जा सकती है।

advertisement