UK Board Result 2018: नतीजे घोषित, मोबाइल पर यूं चेक करें नतीजे     |       मोदी सरकार के 4 साल पूरे होने पर कांग्रेस मना रही 'विश्‍वासघात दिवस'     |       जम्मू-कश्मीर में 5 आतंकी ढेर, आज आएगा 12वीं का रिजल्‍ट, अब तक की 5 बड़ी खबरें     |       मेरठ सिटी स्टेशन पर बज रहा गंदगी का 'हॉर्न', सफाई हुई 'डिरेल'     |       पिछले 5 साल में PF पर मिलेगा सबसे कम ब्याज, 8.55% को मंजूरी     |       कर्नाटक में कुमारस्वामी ने जीता फ्लोर टेस्ट, येद्दयुरप्पा ने ऐसे बढ़ाई टेंशन     |       सावधानः निपाह की आशंका से दिल्ली-एनसीआर में भी अलर्ट, केरल से आने वाले केले धोकर खाएं     |       मध्य प्रदेश में आमने-सामने होंगे यूपी के राजनीतिक सहयोगी सपा-बसपा     |       फिर बयान से पलटे ट्रंप, बोले- हो सकती है किम के साथ मीटिंग     |       विलियमसन की एक चाल ने कोलकाता को कर दिया आइपीएल से बाहर, देखती रह गई पूरी दुनिया     |       दुलत के साथ किताब लिखने पर पूर्व ISI चीफ़ तलब     |       मेजर गोगोई दोषी पाए गए तो ऐसी सजा मिलेगी जो मिसाल बनेगी: सेना प्रमुख     |       गोवा: बीच पर कपल के कपड़े उतरवाए, तस्वीरें खीचीं और बॉयफ्रेंड के सामने ही लड़की से किया गैंगरेप     |       भाषा की मर्यादा भूले उद्धव ठाकरे, कहा- योगी आदित्यनाथ को चप्पलों से पीटना चाहिए     |       इन सात राज्यों में हिंदुओं को अल्पसंख्यक का दर्जा देने पर होगा विचार     |       देश में पानी और तेल को लेकर आग     |       यहां सिर्फ 10 रुपये में खूबसूरत मॉडल्स को बना सकते हैं अपनी गर्लफ्रेंड, जानें     |       कांसटेबल ललिता की ललित बनने के लिए पहले चरण की सर्जरी सफल     |       मुंबई में तैरता रेस्तरां समुद्र में डूबा, 15 लोग बचाए गए     |       मोदी सरकार के चार साल LIVE: CM योगी ने दी PM मोदी को बधाई, मायावती बोलीं- हर मोर्चे पर फेल रही सरकार     |      

राज्य


राजस्थान हाईकोर्ट ने विवादित अध्यादेश पर केंद्र-राज्य को भेजा नोटिस

कोर्ट ने अपने आदेश में अध्यादेश के खिलाफ दायर सभी सात याचिकाएं और जनहित याचिकाओं को भी शामिल किया, जिसमें प्रदेश में कांग्रेस पार्टी के प्रमुख नेता सचिन पायलट द्वारा दायर याचिका भी शामिल है।


rajasthan-high-court-issues-notice-to-center-state-government-on-disputed-ordinance

जयपुरः राजस्थान हाईकोर्ट ने शुक्रवार को वसुंधरा राजे के विवादित अध्यादेश के मद्देनजर केंद्र और राज्य सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। बता दें कि सीएम राजे का यह विवादित अध्यादेश लोकसेवकों को संरक्षण देने वाला है। आपराधिक कानून अध्यादेश 2017, सितंबर में लागू किया गया था। हाईकोर्ट ने सरकार को जवाब देने के लिए एक महीने का समय दिया है। मामले की अगली सुनवाई 27 नवंबर को होनी है।

कोर्ट ने अपने आदेश में अध्यादेश के खिलाफ दायर सभी सात याचिकाएं और जनहित याचिकाओं को भी शामिल किया, जिसमें प्रदेश में कांग्रेस पार्टी के प्रमुख नेता सचिन पायलट द्वारा दायर याचिका भी शामिल है। सीएम वसुंधरा राजे के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी ने सोमवार को तमाम आलोचनाओं को दककिनार कर राजस्थान विधानसभा में यह विधेयक पेश किया था।

हालांकि यह विधेयक मौजूदा या सेवानिवृत न्यायधीश, दंडाधिकारी और लोकसेवकों के खिलाफ उनके अधिकारिक कर्तव्यों के निर्वहन के दौरान किए गए कार्य के संबंध में न्यायालय को जांच के आदेश देने से रोकती है। इसके अलावा कोई भी जांच एजेंसी इन लोगों के खिलाफ अभियोजन पक्ष की मंजूरी के निर्देश के बिना जांच नहीं कर सकती। वहीं अनुमोदन पदाधिकारी को प्रस्ताव प्राप्ति की तारीख के 180 दिन के अंदर यह निर्णय लेना होगा। विधेयक में यह भी प्रावधान है कि तय समय सीमा के अंदर निर्णय नहीं लेने पर मंजूरी को स्वीकृत माना जाएगा।

विधेयक के अनुसार जबतक जांच की मंजूरी नहीं दी जाती है तबतक किसी भी न्यायधीश, दंडाधिकारी या लोकसेवकों के नाम, पता, फोटो, परिवारिक जानकारी और पहचान संबंधी कोई भी जानकारी न ही छापा सकता है और ना ही उजागर किया जा सकता है। प्रावधानों का उल्लंघन करने वालों को दो वर्ष की कारावास और जुमार्ने की सजा दी जा सकती है।

advertisement