RISAT-2B सैटेलाइट लॉन्च, सीमाओं की निगरानी और घुसपैठ रोकने में करेगा मदद - आज तक     |       पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने खून बहाने की दी धमकी Upendra Kushwaha warns of bloodshed in Bihar on May 23 - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       Exclusive: पाक का लड़ाकू विमान समझकर IAF की मिसाइल ने उड़ाया खुद का ही विमान, 6 जवान हो गए थे शहीद - NDTV India     |       चुनाव आयोग का दावा, मतदान में इस्तेमाल हुईं EVM स्ट्रांग रूम में पूरी तरह सुरक्षित - News18 हिंदी     |       जम्मू-कश्मीर में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़, दो आतंकी ढेर - News18 हिंदी     |       JAC 12th आर्ट्स रिजल्ट 2019 जारी, इस डायरेक्ट लिंक से देखें - नवभारत टाइम्स     |       वोटों की गिनती से ठीक पहले अमित शाह के डिनर में एकजुट हुआ NDA, PM मोदी ने चुनाव अभियान की तुलना 'तीर्थयात्रा' से की - NDTV India     |       अंजीर एक फायदे अनेक! दर्द से लेकर अस्‍थमा और दूसरी बीमारियों को दूर करने में है कारगर - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       Exit Poll: मोदी-शाह समेत BJP के ये बड़े चेहरे जीत रहे हैं चुनाव? - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       Me Too: छत्तीसगढ़ में विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक पर लगे सनसनीखेज आरोप - दैनिक जागरण     |       डोनाल्ड ट्रंप बोले - ईरान ‘आतंकवाद को भड़काने वाला नंबर एक’ देश, अगर उकसाया तो... - NDTV India     |       यमन के हूती विद्रोहियों ने ड्रोन से सऊदी अरब के हवाई अड्डे पर किया हमला - Navbharat Times     |       Huawei के ग्राहकों को राहत: अमेरिका ने चीनी टेक कंपनी पर रोक का फैसला 90 दिन टाला - आज तक     |       पाकिस्तानी जनता परेशान, ब्याज दर 12.25%, जाएंगी 10 लाख नौकरियां - Business - आज तक     |       Hyundai Venue के इंजन से लेकर माइलेज तक की पूरी जानकारी यहां मिलेगी - अमर उजाला     |       अब इन 4 बड़े सरकारी बैंकों का होगा विलय, नई सरकार लगाएगी मुहर? - Business - आज तक     |       सेंसेक्स में आज फिर तेजी, 200 अंकों की बढ़त के साथ खुला बाजार - Hindustan     |       गोल्ड लोन वाली कंपनी दे रही अब ये नई सुविधा, जरूरत पड़ने पर ले सकते हैं पैसे - News18 हिंदी     |       विवेक ओबेरॉय के विवादित ट्वीट पर ओमंग कुमार का रिऐक्शन, बोले- हो गया, हो गया - नवभारत टाइम्स     |       Cannes 2019: सोनम कपूर का नया लुक आया सामने, तस्वीरें देख नहीं हटा पाएंगे नजरें - Hindustan     |       'भारत' छोड़ने के बाद क्या दोबारा प्रियंका संग काम करेंगे सलमान? बताया - आज तक     |       Election Result के बाद Arjun Kapoor कपूर देंगे ‘PM Narendra Modi’ को चुनौती, इस दिन होगा घमासान - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       World Cup के इतिहास में इस टीम के प्लेयर्स ने लगाई हैं सबसे ज्यादा सेंचुरी, दूसरे नंबर पर है भारत - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       वर्ल्ड कप 2019: इंग्लैंड जाने से पहले कोहली ने देश के सामने रखा 'विराट' विजन Kohli considers World Cup 2019 as the most challenging one - Sports - आज तक     |       ऑस्ट्रेलिया/ पूर्व ओपनर स्लेटर ने फ्लाइट में महिलाओं के साथ की बदसलूकी, फिर खुद को बाथरूम में बंद कर लिया - Dainik Bhaskar     |       इंग्लैंड ने वर्ल्ड कप टीम में हरफनमौला जोफ्रा आर्चर को दी जगह - आज तक     |      

राज्य


राजस्थान हाईकोर्ट ने विवादित अध्यादेश पर केंद्र-राज्य को भेजा नोटिस

कोर्ट ने अपने आदेश में अध्यादेश के खिलाफ दायर सभी सात याचिकाएं और जनहित याचिकाओं को भी शामिल किया, जिसमें प्रदेश में कांग्रेस पार्टी के प्रमुख नेता सचिन पायलट द्वारा दायर याचिका भी शामिल है।


rajasthan-high-court-issues-notice-to-center-state-government-on-disputed-ordinance

जयपुरः राजस्थान हाईकोर्ट ने शुक्रवार को वसुंधरा राजे के विवादित अध्यादेश के मद्देनजर केंद्र और राज्य सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। बता दें कि सीएम राजे का यह विवादित अध्यादेश लोकसेवकों को संरक्षण देने वाला है। आपराधिक कानून अध्यादेश 2017, सितंबर में लागू किया गया था। हाईकोर्ट ने सरकार को जवाब देने के लिए एक महीने का समय दिया है। मामले की अगली सुनवाई 27 नवंबर को होनी है।

कोर्ट ने अपने आदेश में अध्यादेश के खिलाफ दायर सभी सात याचिकाएं और जनहित याचिकाओं को भी शामिल किया, जिसमें प्रदेश में कांग्रेस पार्टी के प्रमुख नेता सचिन पायलट द्वारा दायर याचिका भी शामिल है। सीएम वसुंधरा राजे के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी ने सोमवार को तमाम आलोचनाओं को दककिनार कर राजस्थान विधानसभा में यह विधेयक पेश किया था।

हालांकि यह विधेयक मौजूदा या सेवानिवृत न्यायधीश, दंडाधिकारी और लोकसेवकों के खिलाफ उनके अधिकारिक कर्तव्यों के निर्वहन के दौरान किए गए कार्य के संबंध में न्यायालय को जांच के आदेश देने से रोकती है। इसके अलावा कोई भी जांच एजेंसी इन लोगों के खिलाफ अभियोजन पक्ष की मंजूरी के निर्देश के बिना जांच नहीं कर सकती। वहीं अनुमोदन पदाधिकारी को प्रस्ताव प्राप्ति की तारीख के 180 दिन के अंदर यह निर्णय लेना होगा। विधेयक में यह भी प्रावधान है कि तय समय सीमा के अंदर निर्णय नहीं लेने पर मंजूरी को स्वीकृत माना जाएगा।

विधेयक के अनुसार जबतक जांच की मंजूरी नहीं दी जाती है तबतक किसी भी न्यायधीश, दंडाधिकारी या लोकसेवकों के नाम, पता, फोटो, परिवारिक जानकारी और पहचान संबंधी कोई भी जानकारी न ही छापा सकता है और ना ही उजागर किया जा सकता है। प्रावधानों का उल्लंघन करने वालों को दो वर्ष की कारावास और जुमार्ने की सजा दी जा सकती है।

advertisement