देश के सबसे भारी रॉकेट 'बाहुबली' से जीसैट-29 लॉन्‍च, कश्मीर और नॉर्थ ईस्ट में जीवन करेगा आसान     |       Birthday Special: चीन से हार के बाद जवाहरलाल नेहरू ने क्या कहा था?     |       राफेल की कीमत, ऑफसेट पार्टनर सब जानकारी SC के पास, डील पर फैसला सुरक्षित     |       कश्मीर पर शाहिद अफरीदी का यू टर्न, कहा- अपने देश के लिए हूं निष्ठावान     |       राहुल की हरी झंडी, राजस्थान में गहलोत और सचिन पायलट दोनों लड़ेंगे चुनाव     |       पीएम मोदी ने US के उपराष्ट्रपति से कहा, दुनिया में हुए आतंकी हमलों का एक ही केंद्र     |       टूट गया चौटाला परिवार, जिस इनेलो को खड़ा किया उसी से निकाले गए अजय चौटाला     |       संसद का शीतकालीन सत्र 11 दिसबंर से, क्या राम मंदिर पर कानून लाएगी मोदी सरकार?     |       पैग के लिए प्लेन में पंगा! देखिए विदेशी महिला के हंगामे का VIDEO     |       Air Pollution : दिल्ली में सांस लेना हुआ मुश्किल, ऑनलाइन बिकने लगी पहाड़ों की 'ताजी हवा'     |       रामायण एक्सप्रेस: जानें किन स्टेशनों से गुजरेगी और कितना होगा किराया     |       RLSP लीडर की हत्या, चौथे नेता की हत्या पर नीतीश कुमार पर फूटा उपेंद्र कुशवाहा का गुस्सा     |       SC में सरकार ने नहीं बताई राफेल की कीमत, कहा-विरोधी उठा सकते हैं फायदा, फैसला सुरक्षित     |       व्हाइट हाऊस में तकरारः मेलानिया ट्रंप ने महिला सुरक्षा सलाहकार को निकालने को क्यों कहा?     |       कमलनाथ ने मुसलमानों से कहा, 'चुनावों तक RSS से सतर्क रहें, बाद में हम देख लेंगे'     |       तृप्ति देसाई का एलान, बोलीं- 17 नवंबर को सबरीमाला मंदिर में करूंगी प्रवेश, सीएम से मांगी सुरक्षा     |       'I Love You रितु' लिखकर पति ने 13 मिनट के वीडियो में उठाया सन्न करने वाला कदम     |       Chhath Puja 2018 : उगते सूर्य को अर्घ्य के साथ देशभर में छठ पर्व का हुआ समापन     |       दिल्ली पहुंची अत्याधुनिक ट्रेन-18, जानें क्‍या है खासि‍यत     |       श्रीलंका की संसद ने प्रधानमंत्री राजपक्षे के खिलाफ मतदान किया     |      

व्यापार


आरबीआई ने प्रमुख ब्याज दरों में नहीं किया बदलाव, तरलता बढ़ाई

रेपो दर वह दर होती है, जिस पर आरबीआई वाणिज्यिक बैंकों को अल्पावधि के लिए उधारी देता है। आरबीआई ने इसी तरह रिवर्स रेपो दर में भी कोई बदलाव नहीं करते हुए उसे 5.75 प्रतिशत पर ही बरकरार रखा है।


rbi-to-keep-interest-rates-unchanged

मुंबईः बढ़ती महंगाई के दबाव और राजकोषीय घाटे की चिंताओं को देखते हुए आरबीआई ने अपनी प्रमुख ब्याज दरों को यथावत रखा है। हालांकि केंद्रीय बैंक ने तरलता बढ़ा दी है और इसके साथ ही देश के विकास दर अनुमान को घटा दिया है। इन सबके लिए वस्तु एवं सेवा कर के क्रियान्वयन, उपभोक्ता और कारोबारी विश्वास के घटने को जिम्मेदार बताया गया है। वहीं भारतीय रिजर्व बैंक की 2017-18 के लिए चौथी द्विमाही मौद्रिक नीति समीक्षा के मुताबिक, रेपो दर को 6 प्रतिशत पर बरकरार रखा गया है।

बता दें कि रेपो दर वह दर होती है, जिस पर आरबीआई वाणिज्यिक बैंकों को अल्पावधि के लिए उधारी देता है। आरबीआई ने इसी तरह रिवर्स रेपो दर में भी कोई बदलाव नहीं करते हुए उसे 5.75 प्रतिशत पर ही बरकरार रखा है। वहीं चौथी द्विमाही मौद्रिक नीति समीक्षा से जारी बयान में कहा गया है कि एमपीसी (मौद्रिक नीति समिति) का निर्णय उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) की चार प्रतिशत महंगाई दर के लक्ष्य को हासिल करने और वृद्धि दर को समर्थन देने के उद्देश्य के लिए मौद्रिक नीति के एक तटस्थ रुख के अनुरूप है।

यह निर्णय आरबीआई के गवर्नर उर्जित आर. पटेल की अध्यक्षता वाली छह सदस्यीय एमपीसी ने लिया है। समिति के पांच सदस्यों ने ब्याज दरों को यथावत रखने के पक्ष में वोट किया। इस छह सदस्यीय एमपीसी में तीन सदस्य सरकार के और तीन आरबीआई के होते हैं। हालांकि आरबीआई ने अगस्त में अपनी पिछली नीतिगत समीक्षा के दौरान रेपो दर में 25 आधार अंकों की कटौती कर उसे 6.25 प्रतिशत से घटाकर 6 प्रतिशत कर दिया था।

वहीं बयान में यह भी कहा गया है कि एमपीसी ने देखा कि सीपीआई महंगाई दर पिछली बैठक से अबतक लगभग दो प्रतिशत बढ़ गई है। महंगाई के इस तरह के जोखिम से सावधानी के साथ निपटने की जरूरत है। यद्यपि घरेलू खाद्य मूल्य परिदृश्य व्यापक तौर पर स्थिर है, लेकिन अखाद्य वस्तुओं, खासतौर से कच्चे तेल से महंगाई की रफ्तार लगातार बढ़ रही है, लेकिन व्यवस्था में तरलता डालने के लिए आरबीआई ने वैधानिक तरलता अनुपात (एसएलआर) को 50 आधार अंक घटाकर 19.50 प्रतिशत कर दिया, जो 15 अक्टूबर से प्रभावी रुप से लागू होगा।

आरबीआई ने वित्त वर्ष 2017-18 के लिए देश के विकास दर अनुमान को घटाकर 6.7 प्रतिशत कर दिया है। इसके पहले आरबीआई ने देश के योजित सकल मूल्य (जीवीए) की वृद्धि दर 7.3 प्रतिशत अनुमानित किया था। मौजूदा वित्त वर्ष के दौरान विभिन्न कारकों को ध्यान में रखते हुए आरबीआई ने कहा कि वित्त वर्ष 2017-18 के लिए वास्तवित जीवीए वृद्धि दर को संशोधित कर 6.7 प्रतिशत कर दिया गया है। इसके पहले अगस्त का अनुमान 7.3 प्रतिशत था। इस बीच एसएलआर कटौती की घोषणा के बाद बैंकिंग के शेयरों की अच्छी मांग के कारण शेयर बाजारों में तेजी दर्ज की गई।

 

advertisement