LIVE: अविश्वास प्रस्ताव पर अग्निपरीक्षा से पहले PM मोदी ने बुलाई कोर ग्रुप की बैठक     |       डॉलर की तुलना में रुपये ने छुआ 69.12 का ऐतिहासिक निचला स्तर     |       यात्री और माल वाहनों के पहिये जाम, लोगों की फजीहत     |       पीएम मोदी के पिछले 4 साल के विदेश दौरे में खर्च हुए 1484 करोड़ रुपये     |       अगस्त से पटनावासियों के हाथ में होगा बैंगनी रंग का नया सौ रुपये का नोट     |       ये है BJP सांसद की DSP बेटी, जो 'कैश फॉर जॉब' घोटाले में हुई अरेस्ट     |       AAP नेता संजय सिंह का मुख्य सचिव पर गंभीर आरोप, कहा- वे भ्रष्टाचारियों से मिले हुए हैं     |       चीफ जस्टिस पर SC कॉलेजियम के सुझाव को सरकार ने अस्वीकार किया     |       गोपाल दास नीरज के निधन से एक युग का अंत, आम जन से लेकर राष्ट्रपति तक ने कहा- 'नमन'     |       Exclusive: अगस्ता के बिचौलिये की वकील का दावा- सोनिया के खिलाफ गवाही देने का दबाव     |       सदी का सबसे लंबा चंद्रग्रहण 27 जुलाई को, जानें जरूरी और काम की बातें     |       मेरठ में पूर्व सांसद के भाई की मीट फैक्ट्री में गैस से तीन की मौत     |       भारत और अमेरिका की नई दिल्ली में 6 सितंबर को होगी 2+2 वार्ता     |       शिखर वार्ता के बाद व्लादीमिर पुतिन के प्रस्ताव को डोनल्ड ट्रंप ने किया ख़ारिज     |       14 मिनट में बैंक के अंदर से 20 लाख पार     |       Dhadak Movie Review: फिर से पहले प्यार की मासूमियत को करना चाहते हैं महसूस, तो देखें जाह्नवी और ईशान की धड़क     |       ट्रेन का जनरल टिकट अब घर में बैठें अपने स्मार्टफोन से करें बुक, लॉन्च हुआ नया एप     |       जन्म के समय था वजन मात्र 375 ग्राम, डॉक्टरों के प्रयास से जीवित बच गई बच्ची     |       Jio का मानसून हंगामा ऑफर आज से, जानें कैसे 500 रुपए में मिलेगा नया जियो फोन     |       चमोली के मलारी में बादल फटा, भूस्खलन से डेरों में पांच मजदूर दबे     |      

व्यापार


आरबीआई ने प्रमुख ब्याज दरों में नहीं किया बदलाव, तरलता बढ़ाई

रेपो दर वह दर होती है, जिस पर आरबीआई वाणिज्यिक बैंकों को अल्पावधि के लिए उधारी देता है। आरबीआई ने इसी तरह रिवर्स रेपो दर में भी कोई बदलाव नहीं करते हुए उसे 5.75 प्रतिशत पर ही बरकरार रखा है।


rbi-to-keep-interest-rates-unchanged

मुंबईः बढ़ती महंगाई के दबाव और राजकोषीय घाटे की चिंताओं को देखते हुए आरबीआई ने अपनी प्रमुख ब्याज दरों को यथावत रखा है। हालांकि केंद्रीय बैंक ने तरलता बढ़ा दी है और इसके साथ ही देश के विकास दर अनुमान को घटा दिया है। इन सबके लिए वस्तु एवं सेवा कर के क्रियान्वयन, उपभोक्ता और कारोबारी विश्वास के घटने को जिम्मेदार बताया गया है। वहीं भारतीय रिजर्व बैंक की 2017-18 के लिए चौथी द्विमाही मौद्रिक नीति समीक्षा के मुताबिक, रेपो दर को 6 प्रतिशत पर बरकरार रखा गया है।

बता दें कि रेपो दर वह दर होती है, जिस पर आरबीआई वाणिज्यिक बैंकों को अल्पावधि के लिए उधारी देता है। आरबीआई ने इसी तरह रिवर्स रेपो दर में भी कोई बदलाव नहीं करते हुए उसे 5.75 प्रतिशत पर ही बरकरार रखा है। वहीं चौथी द्विमाही मौद्रिक नीति समीक्षा से जारी बयान में कहा गया है कि एमपीसी (मौद्रिक नीति समिति) का निर्णय उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) की चार प्रतिशत महंगाई दर के लक्ष्य को हासिल करने और वृद्धि दर को समर्थन देने के उद्देश्य के लिए मौद्रिक नीति के एक तटस्थ रुख के अनुरूप है।

यह निर्णय आरबीआई के गवर्नर उर्जित आर. पटेल की अध्यक्षता वाली छह सदस्यीय एमपीसी ने लिया है। समिति के पांच सदस्यों ने ब्याज दरों को यथावत रखने के पक्ष में वोट किया। इस छह सदस्यीय एमपीसी में तीन सदस्य सरकार के और तीन आरबीआई के होते हैं। हालांकि आरबीआई ने अगस्त में अपनी पिछली नीतिगत समीक्षा के दौरान रेपो दर में 25 आधार अंकों की कटौती कर उसे 6.25 प्रतिशत से घटाकर 6 प्रतिशत कर दिया था।

वहीं बयान में यह भी कहा गया है कि एमपीसी ने देखा कि सीपीआई महंगाई दर पिछली बैठक से अबतक लगभग दो प्रतिशत बढ़ गई है। महंगाई के इस तरह के जोखिम से सावधानी के साथ निपटने की जरूरत है। यद्यपि घरेलू खाद्य मूल्य परिदृश्य व्यापक तौर पर स्थिर है, लेकिन अखाद्य वस्तुओं, खासतौर से कच्चे तेल से महंगाई की रफ्तार लगातार बढ़ रही है, लेकिन व्यवस्था में तरलता डालने के लिए आरबीआई ने वैधानिक तरलता अनुपात (एसएलआर) को 50 आधार अंक घटाकर 19.50 प्रतिशत कर दिया, जो 15 अक्टूबर से प्रभावी रुप से लागू होगा।

आरबीआई ने वित्त वर्ष 2017-18 के लिए देश के विकास दर अनुमान को घटाकर 6.7 प्रतिशत कर दिया है। इसके पहले आरबीआई ने देश के योजित सकल मूल्य (जीवीए) की वृद्धि दर 7.3 प्रतिशत अनुमानित किया था। मौजूदा वित्त वर्ष के दौरान विभिन्न कारकों को ध्यान में रखते हुए आरबीआई ने कहा कि वित्त वर्ष 2017-18 के लिए वास्तवित जीवीए वृद्धि दर को संशोधित कर 6.7 प्रतिशत कर दिया गया है। इसके पहले अगस्त का अनुमान 7.3 प्रतिशत था। इस बीच एसएलआर कटौती की घोषणा के बाद बैंकिंग के शेयरों की अच्छी मांग के कारण शेयर बाजारों में तेजी दर्ज की गई।

 

advertisement