विवादों का राफेल / फ्रांस छह देशों को बेच चुका यह लड़ाकू विमान, भारत को 25% छूट का दावा     |       दिल्ली के अस्पताल में 13 दिन में 11 बच्चों की मौत, एक साल से नहीं है दवा     |       शिवसेना लोगों को पेट्रोल और डीजल के लिए लोन देकर करेगी विरोध प्रदर्शन     |       राहुल गांधी पर वसुंधरा का पलटवार, कहा- ना अच्छा आचार ना विचार     |       कमजोर रुपया: CNG होगी महंगी, अक्टूबर में गैस की कीमतों में संशोधन     |       जेट एयरवेज की फ्लाइट में कान-नाक से बहा था खून, अब यात्री ने 30 लाख रुपये का मुआवजा मांगा     |       गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा-हत्या में शामिल पाकिस्तानी सैनिकों को दें कड़ा जवाब     |       2019 का महाभारत: केंद्र बिंदु बनने की रणनीति बना रही हैं मायावती     |       चीन की मिलिट्री एजेंसी पर US का प्रतिबंध, निशाने पर रूस     |       आवाज़ अड्डा: बाहरी दुनिया से संघ का संवाद, मुसलमानों को संदेश     |       रेप पर दिया विवादित बयान तो स्वाति मालीवाल ने अपने पति को ही घेरा, कहा- बोलते वक्त सावधानी बरतें     |       इमरान के खत पर भारत का जवाब, यूएन बैठक के दौरान सुषमा स्वराज पाक विदेश मंत्री से मिलेंगी     |       21 Sep 2018, राशिफल: आज परिवार, स्वास्थ्य और व्यवसाय के क्षेत्र में कैसा रहेगा आज का दिन जानें यहाँ     |       दिल्ली / मोदी ने धौला कुआं से द्वारका तक मेट्रो में 14 मिनट का सफर किया     |       BBC EXCLUSIVE: बांग्लादेश के पहले हिंदू चीफ़ जस्टिस का 'देश निकाला और ब्लैकमेल'     |       हेमराज की पत्नी बोलीं- पाकिस्तान के दस सैनिकों का सिर काटकर लाओ     |       रक्षक बना भक्षक / दिल्ली पुलिस की सिक्योरिटी यूनिट में तैनात एसीपी पर दुष्कर्म का केस     |       प्रेस रिव्यू: यूजीसी ने कहा विश्वविद्यालय 29 सितंबर को 'सर्जिकल डे' मनाएं     |       मुहर्रम: कर्बला में ऐसा क्या हुआ था जिसका मातम मनाते हैं शिया     |       तीन तलाक़ पर अध्यादेश को मिली राष्ट्रपति की मंजूरी     |      

गपशप


चारो तरफ केसरिया ही केसरिया

नद रहे कि इस संस्थान की बागडोर जब से संघ के चिंतन में डूबे वरिष्ठ पत्रकार राम बहादुर राय को मिली है, यहां अब संघियों का जमावड़ा जुटने लगा है।


saffron-colour-in-indira-gandhi-national-center-of-arts

अब ’इंदिरा गांधी नेशनल सेंटर ऑफ आर्टसजैसे संस्थान भी केसरिया रंग में रंगे नज़र आ रहे हैं। अभी पिछले दिनों इस संस्थान के प्रांगण में दीवाली मेले का आयोजन था, जिसका उद्घाटन संघ प्रमुख मोहन भागवत के कर कमलों से हुआ। सनद रहे कि इस संस्थान की बागडोर जब से संघ के चिंतन में डूबे वरिष्ठ पत्रकार राम बहादुर राय को मिली है, यहां अब संघियों का जमावड़ा जुटने लगा है। चुनांचे जब मोहन भागवत यहां पधारे तो उन्होंने संघ और भाजपा के छोटे-छोटे कार्यकर्त्ताओं को भी अलग से मिलने का 5 मिनट का समय दिया और प्रत्येक की बातों को ध्यानपूर्वक सुना। संघ प्रमुख को जमीनी फीड बैक मिल गया, तो कार्यकर्त्ताओं को उनका खोया हुआ सम्मान!

advertisement

  • संबंधित खबरें