थराली में बादल फटा, 10 दुकान और कई वाहन बहे; भारी बारिश की चेतावनी     |       हत्या या खुदकुशी‌: तीसरी मंजिल से गिरकर एयर होस्टेस की मौत; पिता बोले- टॉर्चर करता था पति     |       मुस्लिमों की पार्टी बताने पर भड़की कांग्रेस, कहा- PM मोदी की 'बीमार मानसिकता' राष्ट्रीय चिंता का विषय     |       बिहार: JDU को पहले इन पार्टियों से करनी होगी बात, तभी बनेगी बीजेपी से बात     |       कासगंज: 350 से ज्यादा पुलिसकर्मी और बग्घी में सवार होकर आया दलित दूल्हा     |       सेंट्रल जेल आते ही सुनील राठी की अधिकारियों से झड़प     |       वकील ने चेंबर में जूनियर को बुलाकर की गंदी बात, गिरफ्तार     |       हजारीबाग में एक परिवार के पांच लोगों ने खुदकुशी की     |       कैंसर की वजह से पत्नी से बना ली थी दूरी, इसलिए की थी हत्या     |       मिशन 2019: ममता के गढ़ में आज मोदी की किसान रैली, 22 सीटों पर नजर     |       आज से विधानसभा का मानसून सत्र कल, पेश होगा पहला अनुपूरक बजट     |       गरीब रथ का सफर होगा महंगा, टिकट में बेडरोल का किराया भी जुड़ेगा     |       स्विस बैंकों में भारतीय खातों में पड़े 300 करोड़ रुपए का तीन साल बाद भी नहीं मिल रहा दावेदार     |       कर्नाटक: रोते हुए बोले सीएम कुमारस्वामी- पी रहा हूं गठबंधन सरकार का विष     |       फीफा वर्ल्ड कप 2018 का खिताब फ्रांस के नाम, जानिए- कहानी हर गोल की     |       अगले महीने भारत अौर पाक की सेना एक साथ युद्धाभ्यास करेंगी     |       बच्चा चोर के शक में गुगल के इंजीनियर की पीट-पीटकर हत्या     |       पाकिस्तान चुनाव में भारत बना चुनावी मुद्दा, इमरान बोले- नवाज के फायदे के लिए सीमा पर बढ़ता है तनाव     |       Exclusive: 28 साल पहले सीमापार कर बनने गया था आतंकी, अब बना सिंगिंग स्टार     |       जम्मू-कश्मीर में चट्टान गिरने से सात की मौत, 33 जख्मी     |      

राजनीति


शरद पवार ने कहा - मोदी सरकार के खिलाफ है जनभावना , देश में बढ़ी बेरोजगारी

पवार ने कहा कि कपड़ा बनाने वाली 67 कंपनियां बंद हो गई हैं, जिसकी वजह से 17,600 लोग बेरोजगार हो गए। लारसन एंड टर्बो, इन्फोसिस और सुजलोन जैसी कंपनियों ने 17,000 कर्मचारियों को नौकरी से हटा दिया है।


sharad-pawar-said-public-sentiment-against-modi-government

मुंबईः राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के अध्यक्ष शरद पवार ने कहा कि बढ़ती बेरोजगारी, महंगाई  के कारण देश की जनभावना मोदी सरकार के खिलाफ हो गई है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि नोटबंदी के बाद से कई कंपनियों में ताले लग गए, जिससे बीजेपी सरकार की हर मोर्चे पर विफलता नजर आने लगी है। उन्होंने कहा कि पूरे देश में बेरोजगारी बढ़ रही है, कृषि क्षेत्र संकट में है, किसान आत्महत्या कर रहे हैं, महंगाई चरम पर है , वित्तीय क्षेत्र असफल हो रहा है और गरीब तबके के लोग बहुत परेशान है। लोग अब सरकार के खिलाफ हो गए है। ऐसे में हमें अगले चुनाव के लिए तैयार रहना चाहिए।

पवार ने कहा कि कपड़ा बनाने वाली 67 कंपनियां बंद हो गई हैं, जिसकी वजह से 17,600 लोग बेरोजगार हो गए। लारसन एंड टर्बो, इन्फोसिस और सुजलोन जैसी कंपनियों ने 17,000 कर्मचारियों को नौकरी से हटा दिया है। आने वाले दिन देश के लिए बेहद मुश्किलों से भरे होंगे। उन्होंने कहा कि आज आलम यह है कि लोग सोशल मीडिया पर अपनी खींझ प्रकट कर रहे हैं और जवाब में सरकार उन्हें पुलिस नोटिस भेज रही है।

शरद पवार ने कहा कि लोकतंत्र में हर नागरिक को अपनी बात प्रकट करने का अधिकार है। सरकार को उन्हें नोटिस भेजकर धमकाना नहीं चाहिए और उनकी निजी स्वतंत्रता छीनने की कोशिश नहीं करनी चाहिए। वहीं पवार ने 5 नवंबर को औरंगावाद में किसान संगठनों के सम्मेलन की घोषणा की।

advertisement