RISAT-2B सैटेलाइट लॉन्च, सीमाओं की निगरानी और घुसपैठ रोकने में करेगा मदद - आज तक     |       सुप्रीम कोर्ट ने की EVM से VVPAT मिलान की एक और याचिका खारिज SC dismisses plea seeking 100% VVPAT counting - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       एयर स्ट्राइक के अगले दिन क्रैश हुए हेलीकॉप्टर मामले में एओसी का तबादला, कोर्ट ऑफ इनक्वायरी तेज - अमर उजाला     |       जम्मू-कश्मीर में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़, दो आतंकी ढेर - News18 हिंदी     |       Exit Poll के आंकड़े आने के बाद शिवसेना ने की राहुल गांधी और प्रियंका गांधी की तारीफ, जानें क्या कहा - NDTV India     |       सुषमा स्वराज बिश्केक में एससीओ बैठक में लेंगी हिस्सा - Navbharat Times     |       NEWS FLASH : अंडमान द्वीप पर आधी रात महसूस किए गए 5.6 तीव्रता वाले भूकंप के झटके - NDTV India     |       मोदी ने कहा- ईवीएम पर बेवजह का विवाद खड़ा कर रहा विपक्ष, अगले पांच साल के लिए एजेंडा तय - दैनिक जागरण     |       कर्नाटक में भी एक्जिट पोल का असर, नुकसान के लिए रोशन बेग ने वेणुगोपाल को ठहराया जिम्मेदार - Times Now Hindi     |       Exit Poll: मोदी-शाह समेत BJP के ये बड़े चेहरे जीत रहे हैं चुनाव? - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       डोनाल्ड ट्रंप बोले - ईरान ‘आतंकवाद को भड़काने वाला नंबर एक’ देश, अगर उकसाया तो... - NDTV India     |       पाकिस्तानी जनता परेशान, ब्याज दर 12.25%, जाएंगी 10 लाख नौकरियां - Business - आज तक     |       यमन के हूती विद्रोहियों ने ड्रोन से सऊदी अरब के हवाई अड्डे पर किया हमला - Navbharat Times     |       ब्रेक्ज़िट : 'सांसदों के पास डील के समर्थन का आखिरी मौका' - BBC हिंदी     |       Hyundai Venue के इंजन से लेकर माइलेज तक की पूरी जानकारी यहां मिलेगी - अमर उजाला     |       अब इन 4 बड़े सरकारी बैंकों का होगा विलय, नई सरकार लगाएगी मुहर? - Business - आज तक     |       सेंसेक्स में आज फिर तेजी, 200 अंकों की बढ़त के साथ खुला बाजार - Hindustan     |       AIRTEL ने 500 रुपए से कम वाले प्लान रिवैंप किए, पढ़िए अब क्या मिलेगा | PREPAID PLAN - bhopal Samachar     |       विवेक ओबेरॉय के विवादित ट्वीट पर ओमंग कुमार का रिऐक्शन, बोले- हो गया, हो गया - नवभारत टाइम्स     |       Cannes 2019: सोनम कपूर का नया लुक आया सामने, तस्वीरें देख नहीं हटा पाएंगे नजरें - Hindustan     |       'भारत' छोड़ने के बाद क्या दोबारा प्रियंका संग काम करेंगे सलमान? बताया - आज तक     |       Election Result के बाद Arjun Kapoor कपूर देंगे ‘PM Narendra Modi’ को चुनौती, इस दिन होगा घमासान - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       वर्ल्ड कप 2019: इंग्लैंड जाने से पहले कोहली ने देश के सामने रखा 'विराट' विजन Kohli considers World Cup 2019 as the most challenging one - Sports - आज तक     |       दूसरी पारी/ क्रिकेट से संन्यास के बाद पेंटिंग में करियर बना सकते हैं धोनी, वीडियो के जरिए दिए संकेत - Dainik Bhaskar     |       इस गंभीर बीमारी से जूझ रही हैं अनुष्का शर्मा, फिर भी वर्ल्ड कप में देंगी विराट कोहली का साथ - अमर उजाला     |       कोहली के लिए इस कंपनी ने बनाए स्पेशल जूते, दुनिया में हैं सिर्फ 150 पीस - Sports - आज तक     |      

संपादकीय


दिल्ली की दमघोंटू हवा में सांस लोना भी मुहाल

जिस समस्या से लोगों का सांस लेना तक दूभर हो गया है, वह किसी राजनेता या रीजनीतिक दल के एजेंडे पर नहीं है....


smog-poisonous-air-mosque-delhi-ncr-government-scientist

कहने को भले दिल्ली भारत का दिल और राजधानी दोनों हो, पर हकीकत यह है कि यहां के लोग जहरीली हवा (स्मॉग) में सांस लेने को मजबूर हैं। हाल ही में जब दिल्ली में एक मैराथन रन होने वाला था तो एम्स की तरफ से इस तरह के आयोजन पर एतराज जताया गया और कहा गया कि दिल्ली-एनसीआर की आबोहवा एेसी नहीं रही कि लोग सुबह सैर पर निकलें या सामूहिक रूप से सड़कों पर दौड़ें। कमाल की बात यह है कि जिस समस्या से लोगों का सांस लेना तक दूभर हो गया है, वह किसी राजनेता या रीजनीतिक दल के एजेंडे पर नहीं है।

इस मामले में अदालतों में जरूर कुछ कार्रवाई चल रही है और समय-समय पर एनजीटी के कुछ दिशानिर्देश आ जाते हैं, जिससे सरकार को भी थोड़ी हरकत में आना पड़ता है। वरना सरकार के लिए भी यह हर साल का कुछ दिनों का रोना भर है। वह भी समझती है कि यह समस्या सीजनल है। बाद में तो स्थिति खुद ब खुद सामान्य हो जाती है। पर यह सोच गलत और खतरनाक दोनों है। दिल्ली से लगे पूरे इलाके में दिन में सूरज के दर्शन नहीं हो रहे हैं और रात का आलम तो कुछ ज्यादा ही संगीन हो गया है। हाइवे और एक्सप्रेस-वे पर दुर्घटना होने की कई खबरें आ रही हैं। यह स्थिति तब है जब इस बार सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली में आतिशबाजी को हतोत्साहित करने के लिए पटाखों की बिक्री पर ही रोक लगा दी थी, जिससे धुएं और शोर के स्तर को कम किया जा सके। पिछले साल की धुंध के बारे में वैज्ञानिकों का अनुमान था कि वह दिवाली के मौके पर दिल्ली की भयंकर आतिशबाजी और पंजाब-हरियाणा में जलाई जाने वाली पराली की देन थी। विचित्र स्थिति यह भी है कि मौसम विज्ञानी अब भी कोई सटीक कारण प्रस्तुत नहीं कर पा रहे हैं।

दिल्ली सरकार ने इससे पूर्व सड़कों पर एक प्रयोग सम-विषम नंबर की गाड़ियों को लेकर जरूर किया था, पर यह कदम भी अपेक्षित नतीजे देने में असफल रहा। बहरहाल, प्रदूषण की गंभीर स्थिति को देखते हुए दिल्ली-एनसीआर में प्राइमरी स्कूलों को एहतियातन बंद करने के आदेश दिए जाने लगे हैं। ‘सफर’ (सिस्टम आॅफ एअर क्वालिटी एंड वेदर फोरकास्टिंग एंड रिसर्च) ने दिशा-निर्देश जारी कर सेहत की दृष्टि से नाजुक स्थिति वाले लोगों को घरों से बाहर निकलने से मना किया है और सुबह-शाम गतिविधि कम करने तथा अच्छी गुणवत्ता के मॉस्क लगाने की भी सलाह दी है। हरियाणा और पंजाब में पराली जलाने से बढ़ी इस समस्या का तोड़ क्या हो सकता है, इस पर एक सामूहिक सहमति की तत्काल जरूरत है, जिस पर सरकारों के संबंधित पक्ष भी पूरी तरह सहमत हों। अगर एेसा नहीं होता तो यह आगे और बड़ी समस्या को जान-बूझकर न्योता देना साबित होगा।

 

advertisement

  • संबंधित खबरें