सावधानः निपाह की आशंका से दिल्ली-एनसीआर में भी अलर्ट, केरल से आने वाले केले धोकर खाएं     |       न्यूज टाइम इंडिया : बुधवार को कुमारास्वामी लेंगे सीएम पद की शपथ     |       शिवसेना अफजल खान का काम कर रही है: योगी     |       प्रेस रिव्यू: मानव ढाल बनाने वाले मेजर गोगोई से महिला को लेकर पूछताछ     |       वैष्णो देवी पर्वत पर लगी भीषण आग, यात्रा में जाने के सभी मार्ग बंद     |       जम्मू-कश्मीरः 10 दिनों से LoC पर पाक की गोलीबारी जारी, अब उरी सेक्टर में भी दागा मोर्टार     |       अमेरिकी बाजार की स्थिरता का असर भारतीय शेयर बाजार पर, हरे निशान के साथ खुले बाजार     |       तूतीकोरिन में धारा 144 लागू, प्लांट बंद होने से 32500 नौकरियों पर चली कुल्हाड़ी     |       पीएम मोदी ने कबूल किया विराट का फिटनेस चैलेंज, कहा- जल्द जारी करूंगा वीडियो     |       वीडियो: कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण में क्यों भड़क गईं सीएम ममता     |       शादी के लिए 15 लड़कों के प्रस्ताव पसंद आए गीता को, लेकिन कहा- पहले माता-पिता ढूंढो     |       चीन में अमेरिकी कर्मचारी कर रहे असामान्य आवाज का सामना     |       अश्लील सीडी मामले में छत्तीसगढ़ कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल से पूछताछ     |       यूपी एटीएस ने आईएसआई एजेंट को उत्तराखंड से किया गिरफ्तार, रिमांड पर लखनऊ लाया जा रहा जासूस     |       गंगा दशहरा 2018: जान तो लीजिए क्यों मनाते हैं यह पर्व     |       यूपी: पेंशन लेने के लिए मां की लाश को चार महीने तक घर में छिपाए रखा     |       बीजेपी के 13 और व‍िधायकों को धमकी, दाउद के गुर्गों का नाम सामने आया     |       मार्च तक सात महीने में 39 लाख रोजगार के अवसरों का सृजन : ईपीएफओ आंकड़े     |       गर्मी का कहर : हरियाणा, राजस्थान और पश्चिमी उत्तरप्रदेश में रेड अलर्ट जारी     |       पैरंट्स का 750 करोड़ है प्राइवेट स्कूलों की जेब में     |      

राष्ट्रीय


सुप्रीम कोर्ट ने दार्जिलिंग से केंद्रीय बलों को हटाने की दी इजाजत

गौरतलब है कि पीठ ने पश्चिम बंगाल सरकार से हाईकोर्ट द्वारा पहाड़ी जिलों में तैनात केंद्रीय अर्ध सैनिक बलों की 15 कंपनियों में से 10 को वहां से हटाने के निर्णय को रोके रखने के फैसले के विरुद्ध केंद्र सरकार की अपील पर प्रतिक्रिया भी मांगी है।


supreme-court-allows-permission-to-remove-central-forces-from-darjeeling

नई दिल्लीः सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को पश्चिम बंगाल के हिंसाग्रस्त दार्जिलिंग और कलिमपोंग जिले से केंद्रीय अर्ध सैनिक बल की सात टुकड़ियों को वहां से हटाने की इजाजत दे दी। हालांकि यहां अलग गोरखालैंड की मांग को लेकर पिछले दिनों प्रदर्शन ने हिंसक रूप ले लिया था। मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति ए.एम. खानविलकर और न्यायमूर्ति डी. वाई चंद्रचूड़ की पीठ ने केंद्र सरकार को केंद्रीय सशस्त्र अर्ध सैन्य बल को हिमाचल प्रदेश और गुजरात में चुनाव के मद्देनजर पश्चिम बंगाल के इन हिंसाग्रस्त जिलों से हटाने के निर्देश दिए हैं।

गौरतलब है कि पीठ ने पश्चिम बंगाल सरकार से हाईकोर्ट द्वारा पहाड़ी जिलों में तैनात केंद्रीय अर्ध सैनिक बलों की 15 कंपनियों में से 10 को वहां से हटाने के निर्णय को रोके रखने के फैसले के विरुद्ध केंद्र सरकार की अपील पर प्रतिक्रिया भी मांगी है। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में उच्च न्यायालय के समक्ष लंबित कार्यवाही पर भी रोक लगा दी और कहा कि इस मामले को संपूर्ण रूप से देखा जाएगा और केंद्र की अपील पर सुनवाई के लिए अगली तारीख 27 नवंबर तय की।

बता दें कि हाईकोर्ट ने अपने अंतरिम आदेश में 27 अक्टूबर तक दार्जिलिंग में सीएपीएफ को हटाने पर रोक लगा दी थी। राज्य सरकार ने केंद्र सरकार के केंद्रीय बलों को हटाने के निर्णय का अदालत में विरोध किया था।

advertisement