अविश्वास प्रस्ताव: मोदी सरकार के खिलाफ हारी लड़ाई लड़ रहे हैं 'लड़ाके'     |       100 रुपये के नए नोट का क्या है गुजरात कनेक्शन?     |       इस ट्रेन में मिलेगा हवाई जहाज जैसा आनंद, बटन दबाने पर खुल जाएंगी खिड़कियां     |       32 किलोमीटर पैदल चलकर पहले दिन ऑफिस समय पर पहुंचा युवक, बॉस ने दिया ये ईनाम (VIDEO)     |       गोपाल दास नीरज : कारवां गुजर गया..     |       उलमा कौन होते निदा का हुक्का-पानी बंद करने वालेः तनवीर हैदर उसमानी     |       एयरसेल मैक्सिस केस में CBI ने दाखिल की चार्जशीट, चिदंबरम और कार्ति का नाम शामिल     |       ग्रेटर नोएडा: नोटिफाइड एरिया में बनी थी बिल्डिंग, शिकायत के बाद भी नहीं हुई कार्रवाई     |       बड़ी ख़बर: अब यात्री मोबाइल फोन से खरीद सकते हैं जनरल टिकट     |       रेड मारते ही उड़े IT अफसरों के होश, 8 करोड़ कैश, 87 किलो सोना बरामद     |       राज ठाकरे का BJP पर हमला, इस वजह से भाजपा को चुनावों में मिली जीत, दोबारा सत्ता में नहीं होगी वापसी     |       Exclusive: अगस्ता के बिचौलिये की वकील का दावा- सोनिया के खिलाफ गवाही देने का दबाव     |       साउथ दिल्ली के करीब 16000 पेड़ो के कटने पर लगे स्टे को NGT ने 27 जुलाई तक बढ़ाया     |       टिहरी में बस के खाई में गिरने से 14 की मौत, 17 लोग घायल     |       रायबरेली में भाजपा मंडल उपाध्यक्ष की हत्या, दारोगा व सिपाही लाइन हाजिर     |       सुरक्षा बल के जवान ने प्राइवेट पार्ट पर करंट लगाकर पत्नी को मार डाला     |       वीडियो: हवा में टकराए दो विमान, जमीन पर गिरते ही सबकुछ तहस-नहस     |       देवरिया जेल में बाहुबली अतीक के बैरक से मिला मोबाइल फोन , दर्ज होगा मुकदमा     |       पटना पहुंचते ही विरोधियों पर जमकर बरसे तेजस्वी     |       गुजरात : MBBS में गोल्ड मेडल जीतने वाली डॉक्टर बनी साध्वी, अरबों की संपत्ति ठुकराई     |      

राष्ट्रीय


महाकाल की नए नियमों के तहत हुई पूजा, सुप्रीम कोर्ट ने दिया था आदेश

वहीं महाकालेश्वर प्रबंध समिति से जुड़े एक पदाधिकारी ने कहा कि महाकाल के क्षरण को लेकर सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर हुई थी। उसके बाद कोर्ट के द्वारा गठित विशेशज्ञों का दल मंदिर में जांच के लिए भी आया था।


supreme-court-gave-order-new-rules-mahakal-worship

नई दिल्ली: मध्यप्रदेश के उज्जैन में स्थित महाकाल शिवलिंग की आज नए नियमों के तहत भस्मारती और जलाभिषेक किया गया। भारत के प्रमुख ज्योर्तिलिंगों में से एक उज्जैन के महाकाल की शिवलिंग के क्षरण ने सभी को चिंता में डाल दिया था। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा फैसला लेते हुए कहा है कि अब महाकाल को आरओ जल से स्नान कराया जाएगा। श्रद्धालु अब महाकाल को 500 मिली लिटर से ज्यादा जल नहीं चढ़ा पाएंगे। बता दें कि महाकालेश्वर मंदिर प्रबंध समिति ने एक कार्ययोजना बनाकर शुक्रवार को सर्वोच्च न्यायालय में पेश किया था। मंदिर प्रबंध समिति ने कोर्ट से अनुरोध किया था कि महाकाल को अब आरओ जल से स्नान कराया जाए।

वहीं महाकालेश्वर प्रबंध समिति से जुड़े एक पदाधिकारी ने कहा कि महाकाल के क्षरण को लेकर सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर हुई थी। उसके बाद कोर्ट के द्वारा गठित विशेशज्ञों का दल मंदिर में जांच के लिए भी आया था। उसके बाद मंदिर समिति ने क्षरण को रोकने के लिए आठ निर्णय लिए, जिसे सुनवाई के दौरान शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश के समक्ष प्रस्तुत किया गया। महाकाल मंदिर समिति की सहायक प्रशासनिक अधिकारी प्रीति चौहान ने कहा कि न्यायालय के सभी निर्देश उन तक नहीं आए हैं, मगर शिवलिंग के स्नान के लिए आरओ जल का जिक्र है। इस दिशा में पहल की जाएगी। फिलहाल एक आरओ प्लांट है, जिसका श्रद्धालु उपयोग करते हैं, अभी उसी से अभिषेक के लिए जल दिया जाएगा। जल्दी ही एक और प्लांट लगाया जाएगा।

हालांकि सूत्र बताते है कि विशेषज्ञों ने अपनी जांच में पाया कि जलाभिषेक में प्रयुक्त होने वाले जल और पंचामृत की सामग्री समेत अन्य पूजन में उपयोग होने वाली वस्तुओं से महाकाल के शिवलिंग का क्षरण हो रहा है। मंदिर समिति ने न्यायालय को बताया कि भस्मारती के समय शिवलिंग को आधा नहीं, सूती कपड़े से पूरा ढका जाए, सवा लीटर से ज्यादा पंचामृत न चढ़ाया जाए, इसमें शक्कर का इस्तेमाल बिलकुल नहीं होना चाहिए, शाम को पांच बजे के बाद जलाभिषेक नहीं होगा। इसके अलावा गर्भगृह में सामान्य तापमान तय करने के इंतजाम भी किए जाएं। वहीं न्यायालय ने विशेशज्ञों के दल और मंदिर प्रबंध समिति के सुझावों को सराहा है और उस पर अपनी सहमति भी जताई है। 

advertisement