बिहार: BJP-JDU के प्रत्याशियों की घोषणा, देखें लिस्ट- लोकसभा चुनाव 2019 - BBC हिंदी     |       राम मनोहर लोहिया का जिक्र कर मोदी ने कांग्रेस और समाजवादी दलों पर साधा निशाना - नवभारत टाइम्स     |       लोकसभा चुनाव 2019: बीजेपी आज जारी कर सकती है उम्मीदवारों की चौथी लिस्ट - आज तक     |       Lok Sabha Election 2019: लालू के सियासी और जातीय गणित ने कांग्रेस को झुकने पर किया मजबूर, मांझी, कुशवाहा, साहनी को दी तवज्जो - Jansatta     |       भ्रष्टाचार पर अब होगा कड़ा वार, जस्टिस पिनाकी घोष बने देश के पहले Lokpal, राष्ट्रपति ने दिलाई शपथ - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       यूपी: कांग्रेस ने मुरादाबाद से इमरान प्रतापगढ़ी को बनाया उम्मीदवार, देखिए उनसे खास बातचीत - ABP News     |       Video: होली पर क्रिकेट खेल रहे मुस्लिमों को पीटा, कहा- PAK जाओ - trending clicks - आज तक     |       देश तक: केंद्र सरकार ने JKLF पर लगाया प्रतिबंध Deshtak: Modi government imposes ban on JKLF of Yasin Malik - Desh Tak - आज तक     |       नॉर्थ कोरिया की मदद के लिए अब चीन को भुगतना होगा नुकसान, अमेरिका ने आंखें तरेरी - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       पाक को मोदी के मैसेज पर विपक्ष का वार- बहिष्कार और बधाई साथ-साथ कैसे? - आज तक     |       दंगल: सैम पित्रोदा पर कार्रवाई करेंगे राहुल? Dangal: Rahul Gandhi will take any action on Sam Pitroda? - Dangal - आज तक     |       लंदन में नीरव मोदी के गिरफ्तार होने पर गुलाम नबी आजाद ने कहा- चुनावी फायदे के लिए हुई कार्रवाई - ABP News     |       JIO, AIRTEL, VODAFONE, IDEA: पढ़िए 1699 में कौन कितना दे रहा है - bhopal Samachar     |       TATA की इस सेडान कार पर जबरदस्त छूट, मारुति बलेनो से भी हुई सस्ती - Zee Business हिंदी     |       Airtel 4G Hotspot प्लान्स में 100GB तक डाटा समेत फ्री मिलेगी डिवाइस, पढ़ें डिटेल्स - दैनिक जागरण     |       Jio Offer: शियोमी के इस फोन पर मिल रहा है, 2000 से ज्यादा का कैशबैक, साथ में 100 GB इंटरनेट फ्री - Hindustan     |       Kesari Box Office Collection Day 2: अक्षय कुमार की फिल्म 'केसरी' की ताबड़तोड़ कमाई, दो दिन में कमा लिए इतने करोड़ - NDTV India     |       माधुरी दीक्षित के घर आया नया मेहमान, तस्वीर शेयर कर दी जानकारी - Himachal Abhi Abhi     |       मणिकर्णिका के बाद कंगना का एक और बायोपिक, इस बाहुबली नेता का जीवन - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       64th FilmFare Award 2019: फिल्मफेयर अवॉर्ड के लिए नॉमिनेशन लिस्ट जारी, बेस्ट एक्टर और एक्ट्रेस की रेस में हैं ये सितारे - NDTV India     |       एबी डिविलियर्स की कलम से/ जबरदस्त एक्शन के लिए रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु तैयार - Dainik Bhaskar     |       विराट कोहली के बचाव में आए CSK के कोच, गौतम गंभीर को दिया ये जवाब - Hindustan     |       IPL-12: लसिथ मलिंगा को अपनी कमाई खोने का डर नहीं, ये है वजह - आज तक     |       राजनीति की पिच पर गौतम के लिए होंगी ये 'गंभीर' चुनौतियां - Navbharat Times     |      

राज्य


दिल्ली उपराज्यपाल तय समय में निपटाएं फाइलें- सुप्रीम कोर्ट

वहीं सुप्रीम कोर्ट में पूरे दिन चली सुनवाई में दिल्ली सरकार की ओर से नियुक्त शीर्ष वकील गोपाल सुब्रमण्यम से न्यायधीशों ने कई सवाल पूछे। सुब्रमण्यम ने अपनी दलील में कहा कि उपराज्यपाल कामकाज करने के दौरान अपनी ताकत का इस्तेमाल किसी चुने हुए लोकतांत्रिक सरकार की तरह करते हैं।


suprime-court-delhi-lg-anil-baijal-complited-files-aap-government

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार की ओर से भेजी गई फाइलों को निपटाने के लिए दिल्ली के उपराज्यपाल को समय सीमा तय करने को कहा है। इसके साथ ही कोर्ट ने इसमें हुई देरी की वजह बताने को भी कहा है। सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति ए.एम. खानविल्कर, न्यायमूर्ति ए.के. सीकरी, न्यायमूर्ति डी.वाई. चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति अशोक भूषण की पांच सदस्यीय संवैधानिक पीठ ने कहा कि दिल्ली के लोकतांत्रिक शासन की पूरी योजना का दायित्व उपराज्यपाल का बनता है।

वहीं सुप्रीम कोर्ट में पूरे दिन चली सुनवाई में दिल्ली सरकार की ओर से नियुक्त शीर्ष वकील गोपाल सुब्रमण्यम से न्यायधीशों ने कई सवाल पूछे। सुब्रमण्यम ने अपनी दलील में कहा कि उपराज्यपाल कामकाज करने के दौरान अपनी ताकत का इस्तेमाल किसी चुने हुए लोकतांत्रिक सरकार की तरह करते हैं। बहस से यह सामने आया कि दिल्ली सरकार कानून व्यवस्था, पुलिस, जमीन और ऐसे क्षेत्र जहां कानून लागू करने, सहायता करने और उपराज्यपाल की सलाह की जरूरत है, उन मामलों में दखल नहीं दे सकती।

दिल्ली सरकार के पास नहीं है अधिकार
उपराज्यपाल अपने वीटो का इस्तेमाल कर सकते हैं और मतभेद का हवाला देकर मुद्दे को राष्ट्रपति के पास निर्णय के लिए भेज सकते हैं। इसके अलावा कुछ ऐसे क्षेत्र भी हैं, जिनमें दिल्ली सरकार के पास कोई अधिकार नहीं है। न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ ने कहा कि राष्ट्रपति केंद्रशासित प्रदेशों में उपराज्यपालों के जरिए अपना शासन चलाते हैं और अगर इसमें अतिक्रमण होता है तो न्यायालय उस मामले को देख सकती है।

राज्यपाल दबाकर बैठे हैं कई फाइलें
न्यायमूर्ति भूषण ने भी सुब्रमण्यम से ऐसे विशिष्ट उदाहरण पेश करने के लिए कहा, जिससे लगता हो कि उपराज्यपाल दिल्ली सरकार की राह में आकर खड़े हो गए हैं। सुब्रमण्यम ने न्यायालय को ऐसे उदाहरण गिनाए, जिसमें उपराज्यपाल संबंधित मंत्रियों की गैरमौजूदगी में अधिकारियों के साथ बैठक कर निर्देश जारी कर देते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि उपराज्यपाल मंत्रिपरिषद की ओर से भेजी गई फाइलों का निपटारा नहीं कर रहे हैं और कुछ मामलों में तो एक साल से ज्यादा समय से उपराज्यपाल फाइलों को दबाकर बैठे हैं। इनमें से एक महत्वपूर्ण फाइल, जिसमें न्यूनतम मजदूरी 9000 से बढ़ाकर 15,000 करना है, वह भी उपराज्यपाल के पास लंबित है।

संवैधानिक पीठ दिल्ली सरकार के दिल्ली उच्च न्यायालय द्वारा खारिज की गई याचिका पर सुनवाई कर रहा है। उच्च न्यायालय ने दिल्ली सरकार की अपील को खारिज करते हुए राष्ट्रीय राजधानी में प्रशासनिक निर्णय लेने में उपराज्यपाल की सर्वोच्चता बरकरार रखने का निर्देश दिया था। सर्वोच्च न्यायालय इस मामले की अगली सुनवाई 7 नवंबर को करेगा।

advertisement