UK Board Result 2018: नतीजे घोषित, मोबाइल पर यूं चेक करें नतीजे     |       मोदी सरकार के 4 साल पूरे होने पर कांग्रेस मना रही 'विश्‍वासघात दिवस'     |       जम्मू-कश्मीर में 5 आतंकी ढेर, आज आएगा 12वीं का रिजल्‍ट, अब तक की 5 बड़ी खबरें     |       मेरठ सिटी स्टेशन पर बज रहा गंदगी का 'हॉर्न', सफाई हुई 'डिरेल'     |       कर्नाटक में कुमारस्वामी ने जीता फ्लोर टेस्ट, येद्दयुरप्पा ने ऐसे बढ़ाई टेंशन     |       हिंदू और मुस्लिम में बंटा चुनाव, 8-8 लाख वोटों के समीकरण ने मुकाबला दिलचस्प बनाया     |       सावधानः निपाह की आशंका से दिल्ली-एनसीआर में भी अलर्ट, केरल से आने वाले केले धोकर खाएं     |       फिर बयान से पलटे ट्रंप, बोले- हो सकती है किम के साथ मीटिंग     |       मेजर गोगोई दोषी पाए गए तो ऐसी सजा मिलेगी जो मिसाल बनेगी: सेना प्रमुख     |       गोवा: बीच पर कपल के कपड़े उतरवाए, तस्वीरें खीचीं और बॉयफ्रेंड के सामने ही लड़की से किया गैंगरेप     |       दुलत के साथ किताब लिखने पर पूर्व ISI चीफ़ तलब     |       इन सात राज्यों में हिंदुओं को अल्पसंख्यक का दर्जा देने पर होगा विचार     |       देश में पानी और तेल को लेकर आग     |       IPL-11: अफगानी राष्ट्रपति ने पीएम मोदी को किया टैग, लिखा- हीरो हैं राशिद, किसी और को नहीं देंगे     |       यहां सिर्फ 10 रुपये में खूबसूरत मॉडल्स को बना सकते हैं अपनी गर्लफ्रेंड, जानें     |       पिछले 5 साल में PF पर मिलेगा सबसे कम ब्याज, 8.55% को मंजूरी     |       कांसटेबल ललिता की ललित बनने के लिए पहले चरण की सर्जरी सफल     |       मुंबई में तैरता रेस्तरां समुद्र में डूबा, 15 लोग बचाए गए     |       मोदी सरकार के चार साल LIVE: CM योगी ने दी PM मोदी को बधाई, मायावती बोलीं- हर मोर्चे पर फेल रही सरकार     |       गुजरात: बाइक पर तलवार भांजते नजर आई लेडी डॉन, लूट केस में गिरफ्तार     |      

राज्य


सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, 18 साल की कम उम्र पत्नी से संबंध बनाना बलात्कार

गौरतलब है कि आईपीसी375(2) क़ानून का यह अपवाद कहता है कि यदि पति अपनी 15 से 18 साल की पत्नी से संबंध बनाता है तो उसे दुष्कर्म नहीं माना जाएगा, जबकि बाल विवाह कानून के अनुसार शादी के लिए महिला की उम्र 18 साल होनी चाहिए


suprime-court-verdict-sex-with-minor-wife-is-rape

नई दिल्ली: 18 साल से कम उम्र की पत्नी के साथ शारीरिक संबंध बनाने के मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा फैसला लिया है। कोर्ट ने कहा कि शारीरिक संबंधों के लिए उम्र 18 साल से कम करना असंवैधानिक है। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने आईपीसी की धारा 375 के अपवाद को अंसवैधानिक करार दिया है। यदि पति 15 से 18 साल की पत्नी के साथ शारीरिक संबंध बनाता है तो उसे रेप माना जाए। कोर्ट ने कहा ऐसे मामले में एक साल के भीतर महिला के शिकायत करने पर रेप का मामला दर्ज किया जा सकता है।

गौरतलब है कि आईपीसी375(2) कानून का यह अपवाद कहता है कि यदि पति अपनी 15 से 18 साल की पत्नी से संबंध बनाता है तो उसे दुष्कर्म नहीं माना जाएगा, जबकि बाल विवाह कानून के अनुसार शादी के लिए महिला की उम्र 18 साल होनी चाहिए। हालांकि देश में बाल विवाह भारी संख्या में हो रहे हैं, ऐसे में राज्यों पर इन्हें रोकने की पूरी जिम्मेदारी है। वही इस पूरे मामले को सुप्रीम कोर्ट ने पॉस्को के साथ जोड़ा है।

वहीं सुप्रीम कोर्ट में केंद्र सरकार ने कहा था कि बाल विवाह एक सामाजिक सच्चाई है और इस पर कानून बनाना संसद का काम है और कोर्ट इसमें दखल नहीं दे सकता है। इसके साथ ही केंद्र सरकार ने यह भी कहा कि यदि सुप्रीम कोर्ट को लगता है कि ये सही नहीं है तो संसद इस पर विचार करेगी। 15 से 18 साल की पत्नी से संबंध बनाने को दुष्कर्म मनाने वाली याचिका पर कोर्ट अपना फैसला सुना सकता है।

हालांकि इस मामले की सुनवाई के समय सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि सती प्रथा भी सदियों से चली आ रही थी, लेकिन उसे भी खत्म किया गया। जरूरी नहीं, जो प्रथा सदियों से चली आ रही हो वो सही हो और उसे हर दौर में लागू किया जाए। वहीं सुनवाई में बाल विवाह के लिए केवल 15 दिन से 2 साल की सज़ा पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से कहा था क्या ये कठोर सज़ा है? कोर्ट ने कहा कि कठोर सज़ा का मतलब मृत्युदंड है, जो आईपीसी में भी कठोर सज़ा मानी गई है।

सुप्रीम कोर्ट ने बाल विवाह के मामले पर सुनवाई के दौरान कहा कि हमारे पास तीन विकल्प हैं, पहला इस अपवाद को हटा दें जिसका मतलब है कि बाल विवाह के मामले में 15 से 18 साल की लड़की के साथ यदि उसका पति संबंध बनाता है तो उसे रेप माना जाए। दूसरा विकल्प ये है कि इस मामले में पॉस्को एक्ट लागू किया जाए। तीसरा विकल्प ये है कि इसमें कुछ न किया जाए और इसे अपवाद माना जाए।

इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करने वाले याचिकाकर्ता ने कहा कि बाल विवाह से बच्चों के अधिकारों का उल्लंघन हो रहा है। इसलिए उन्होंने इसके खिलाफ याचिका दायर की है। याचिका में कहा गया है कि बाल विवाह बच्चों पर एक तरह का जुर्म है, क्योंकि कम उम्र में शादी करने से उनका यौन उत्पीड़न ज्यादा होता है। ऐसे में बच्चों को प्रोटेक्ट करने की जरूरत है।

advertisement