लोकसभा चुनाव: बिहार की 39 सीटों पर NDA कैंडिडेट्स का ऐलान, शत्रुघ्न का कटा टिकट, बेगूसराय से गिरिराज - नवभारत टाइम्स     |       पाक को मोदी के मैसेज पर विपक्ष का वार- बहिष्कार और बधाई साथ-साथ कैसे? - आज तक     |       BJP-Congress Candidates List: कांग्रेस-BJP की एक और लिस्ट जारी; पुरी से पात्रा, फतेहपुर सीकरी से राज बब्बर - Hindustan     |       Lok Sabha Election 2019: लालू के सियासी और जातीय गणित ने कांग्रेस को झुकने पर किया मजबूर, मांझी, कुशवाहा, साहनी को दी तवज्जो - Jansatta     |       लोकसभा/ बिहार में पटना साहिब से शत्रुघ्न का टिकट कटा, उनकी जगह केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद लड़ेंगे - Dainik Bhaskar     |       भ्रष्टाचार पर अब होगा कड़ा वार, जस्टिस पिनाकी घोष बने देश के पहले Lokpal, राष्ट्रपति ने दिलाई शपथ - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       कांग्रेस ने मानी राज बब्बर की मांग, अब फतेहपुर सीकरी से मिला टिकट - आज तक     |       राम मनोहर लोहिया का जिक्र कर मोदी ने कांग्रेस और समाजवादी दलों पर साधा निशाना - नवभारत टाइम्स     |       नॉर्थ कोरिया की मदद के लिए अब चीन को भुगतना होगा नुकसान, अमेरिका ने आंखें तरेरी - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       दंगल: सैम पित्रोदा पर कार्रवाई करेंगे राहुल? Dangal: Rahul Gandhi will take any action on Sam Pitroda? - Dangal - आज तक     |       लंदन में नीरव मोदी के गिरफ्तार होने पर गुलाम नबी आजाद ने कहा- चुनावी फायदे के लिए हुई कार्रवाई - ABP News     |       चीन में हाइवे पर धू-धू कर जली यात्रियों से भरी बस, भयंकर नजारा - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       JIO, AIRTEL, VODAFONE, IDEA: पढ़िए 1699 में कौन कितना दे रहा है - bhopal Samachar     |       Tata Tigor पर बंपर डिस्काउंट, शुरुआती कीमत Maruti Baleno से भी कम हुई - नवभारत टाइम्स     |       Jio Offer: शियोमी के इस फोन पर मिल रहा है, 2000 से ज्यादा का कैशबैक, साथ में 100 GB इंटरनेट फ्री - Hindustan     |       हफ्ते के आखिरी कारोबारी दिन बाजार में गिरावट - मनी कॉंट्रोल     |       माधुरी दीक्षित के घर आया नया मेहमान, तस्वीर शेयर कर दी जानकारी - Himachal Abhi Abhi     |       Kesari Box Office Collection Day 2: अक्षय कुमार की फिल्म 'केसरी' की ताबड़तोड़ कमाई, दो दिन में कमा लिए इतने करोड़ - NDTV India     |       मणिकर्णिका के बाद कंगना का एक और बायोपिक, इस बाहुबली नेता का जीवन - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       64th FilmFare Award 2019: फिल्मफेयर अवॉर्ड के लिए नॉमिनेशन लिस्ट जारी, बेस्ट एक्टर और एक्ट्रेस की रेस में हैं ये सितारे - NDTV India     |       विराट कोहली के बचाव में आए CSK के कोच, गौतम गंभीर को दिया ये जवाब - Hindustan     |       एबी डिविलियर्स की कलम से/ जबरदस्त एक्शन के लिए रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु तैयार - Dainik Bhaskar     |       IPL-12: लसिथ मलिंगा को अपनी कमाई खोने का डर नहीं, ये है वजह - आज तक     |       जब बीच मैदान साथी खिलाड़ी से भिड़ पड़े थे गंभीर, एक गलती ने बर्बाद कर दिया पूरा करियर- Amarujala - अमर उजाला     |      

ब्लॉग


सरोगेसी की दुनिया में एक सपने का अबार्शन

एक महिला की जिंदगी क्या इतनी भी त्रासद हो सकती है कि वह कोख से जुड़ी संवेदना को भी अपनी जिंदगी के शोक के आगे हार जाए


surrogacy-womb-dynasty-women-sense-fetal-violence-sapna-navin-jha-child-new-born-baby

कोख के हिस्से आया यह एक और शोक, एक और त्रासदी है। बात कुछ साल पुरानी है। अखबार के लिए खबर लिखने के दौरान पहली बार ऐसी किसी घटना से दो-चार हो रहा था। घटना की जघन्यता ने खबर की और परतें उधेड़ने को मजबूर किया। पर इसके बाद जो सच सामने आया, वह मन को कचोट और सवालों से भर देने वाला था।

यह घटना इंदौर की थी। सरोगेसी के धंधे का तब एक और सियाह चेहरा सामने आया जब पता चला कि भ्रूण हिंसा ने यहां भी अपनी गुंजाइश निकाल ली है। इस शहर की एक महिला सपना नवीन झा ने एक डॉक्टर के मार्फत एक बड़े कारोबारी के साथ डेढ़ लाख रुपए में किराए की कोख का मौखिक करार किया। शर्त के मुताबिक अगर गर्भ ठहरने के तकरीबन ढाई महीने बाद करवाई गई सोनोग्राफी में गर्भ में लड़के की जगह लड़की होने का पता चलता है तो अबार्शन कराना होगा।

जिसका खतरा था, वही हुआ भी। सपना को ढाई महीने बाद गर्भ गिराने के लिए तैयार होना पड़ा। पर उसे अफसोस इसलिए नहीं था क्योंकि ऐसा करने पर भी उसे 25 हजार रुपए की आमदनी हुई। सपना ने यह सब अपनी तंगहाली से आजिज आकर किया था, सो 25 हजार रुपए की आमद भी उसके लिए कम सुकूनदेह नहीं थी। इस पूरे मामले का खुलासा जिस तरह हुआ, वह एक और बड़ी ट्रेजडी है। इस बारे में लोगों को पता तब चला जब सपना का नाम धार के पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष और कांग्रेस नेता कैलाश अग्रवाल हत्याकांड में उछला और वह पुलिसिया गिरफ्त में आ गई। जिंदगी के इस खतरनाक मोड़ पर सपना ने आपबीती में बताया कि वह मुफलिसी से लड़ते हुए कैसे कोख के सौदे और फिर भ्रूण हत्या के लिए तैयार हो गई।

उसने बताया कि किराए का गर्भ गिराने के बाद वह एक बार फिर से अपनी कोख को किराए पर देने के लिए तैयार थी लेकिन ऐसा करने के लिए उसे कम से कम पांच महीने रुकना पड़ता। सपना दोबारा सरोगेट मदर बनने का सोच ही रही थी कि अग्रवाल हत्याकांड ने उसे जिंदगी के एक और खतरनाक मोड़ पर खड़ा कर दिया। इस पूरे मामले में एक खास बात यह भी है कि सपना अपनी जिंदगी से परेशान जरूर है पर उसे अपने किए का कतई अफसोस नहीं है। शायद उसकी जिंदगी को मुफलिसी ने इस कदर उचाट बना दिया है कि ममता और संवेदना जैसे एहसास उसके लिए बेमतलब हो चुके हैं। एक महिला की जिंदगी क्या इतनी भी त्रासद हो सकती है कि वह कोख से जुड़ी संवेदना को भी अपनी जिंदगी के शोक के आगे हार जाए।

यह घटना औरत की जिंदगी के आगे पैदा हो रहे नए खतरों की बानगी भी है। सरोगेसी सपना के लिए शगल नहीं बल्कि उसकी मजबूरी थी। डेढ़ लाख रुपए की हाथ से जाती कमाई में से कम से कम 25 हजार उसकी अंटी में आ जाए, इसलिए गर्भ गिराने की क्रूरता को भी उसने कबूला। ...तो क्या एक महिला की संवेदना उसकी मुफलिसी के आगे हार गई या उसके संघर्ष के लिए एक पुरुष वर्चस्व वाली आर्थिक-सामाजिक स्थितियों में बहुत गुंजाइश बची ही नहीं थी। एक करोड़पति पुरुष का अपना वंश चलाने के सपने की सचाई कितने'सपनों’ को रौंदने जैसी है, यह समझना जरूरी है। सपना नवीन झा के मामले में पहली नजर में यह संवेदना दांव पर हारती दिखती है।

 

advertisement

  • संबंधित खबरें