राफेल केस की जांच हो या नहीं, सुप्रीम कोर्ट ने फैसला रखा सुरक्षित, सरकार ने कीमत को लेकर दी ये दलील     |       केपाटन से मंत्री बाबूलाल वर्मा का टिकट कटा, चंद्रकांता मेघवाल को मौका     |       डोनाल्ड ट्रंप ने कहा- मैं प्रधानमंत्री मोदी का बहुत सम्मान करता हूं     |       मोदी ने वैश्विक नेताओं से की मुलाकात, अमेरिकी उपराष्ट्रपति को दिया भारत आने का न्योता     |       बयान से पलटे शाहिद आफरीदी, कहा- कश्मीर में भारत कर रहा जुल्म     |       इसरो / जीसैट-29 का सफल प्रक्षेपण, 2020 तक गगनयान के तहत पहला मानव रहित मिशन शुरू होगा     |       अजय चौटाला को इनेलो से निष्कासित किए जाने सहित दिन के 10 बड़े समाचार     |       आज से शुरू हो रही है रामायण एक्सप्रेस ट्रेन     |       केंद्र ने लौटाया पश्चिम बंगाल का नाम बदलने का प्रस्ताव, ममता नाराज     |       जिलेभर में स्कूल-हॉस्पिटल-क्लब व संगठनों ने बच्चों के बीच मनाया पं. नेहरू का जन्मदिन और बाल दिवस     |       नॉनस्टॉप 100: देश भर में मनाया गया छठ, आज समापन     |       संसद का शीतकालीन सत्र 11 दिसबंर से, क्या राम मंदिर पर कानून लाएगी मोदी सरकार?     |       Srilanka : संसद में प्रधानमंत्री राजपक्षे के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पास     |       अयोध्या में RSS की रैली, इकबाल अंसारी बोले- छोड़ देंगे अयोध्या     |       हवा की गुणवत्ता कुछ बेहतर, पराली जलाने की घटना हुई कम     |       दीक्षांत समारोह में छात्रों को गोल्ड मेडल देंगे राष्ट्रपति     |       अखिलेश का BJP पर तंज- तरक्की के रुके रास्ते, बदल रहे बस नाम     |       सेना और DRI ने जम्मू से भारी मात्रा में बरामद किए हथियार और गोला-बारूद     |       सबरीमला: तृप्ति देसाई 17 नवंबर को जाएंगी मंदिर, पीएम मोदी से मांगी सुरक्षा     |       रालोसपा नेता की गोली मार कर हत्या, उपेंद्र कुशवाहा ने साधा नीतीश सरकार पर निशाना     |      

ब्लॉग


सरोगेसी की दुनिया में एक सपने का अबार्शन

एक महिला की जिंदगी क्या इतनी भी त्रासद हो सकती है कि वह कोख से जुड़ी संवेदना को भी अपनी जिंदगी के शोक के आगे हार जाए


surrogacy-womb-dynasty-women-sense-fetal-violence-sapna-navin-jha-child-new-born-baby

कोख के हिस्से आया यह एक और शोक, एक और त्रासदी है। बात कुछ साल पुरानी है। अखबार के लिए खबर लिखने के दौरान पहली बार ऐसी किसी घटना से दो-चार हो रहा था। घटना की जघन्यता ने खबर की और परतें उधेड़ने को मजबूर किया। पर इसके बाद जो सच सामने आया, वह मन को कचोट और सवालों से भर देने वाला था।

यह घटना इंदौर की थी। सरोगेसी के धंधे का तब एक और सियाह चेहरा सामने आया जब पता चला कि भ्रूण हिंसा ने यहां भी अपनी गुंजाइश निकाल ली है। इस शहर की एक महिला सपना नवीन झा ने एक डॉक्टर के मार्फत एक बड़े कारोबारी के साथ डेढ़ लाख रुपए में किराए की कोख का मौखिक करार किया। शर्त के मुताबिक अगर गर्भ ठहरने के तकरीबन ढाई महीने बाद करवाई गई सोनोग्राफी में गर्भ में लड़के की जगह लड़की होने का पता चलता है तो अबार्शन कराना होगा।

जिसका खतरा था, वही हुआ भी। सपना को ढाई महीने बाद गर्भ गिराने के लिए तैयार होना पड़ा। पर उसे अफसोस इसलिए नहीं था क्योंकि ऐसा करने पर भी उसे 25 हजार रुपए की आमदनी हुई। सपना ने यह सब अपनी तंगहाली से आजिज आकर किया था, सो 25 हजार रुपए की आमद भी उसके लिए कम सुकूनदेह नहीं थी। इस पूरे मामले का खुलासा जिस तरह हुआ, वह एक और बड़ी ट्रेजडी है। इस बारे में लोगों को पता तब चला जब सपना का नाम धार के पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष और कांग्रेस नेता कैलाश अग्रवाल हत्याकांड में उछला और वह पुलिसिया गिरफ्त में आ गई। जिंदगी के इस खतरनाक मोड़ पर सपना ने आपबीती में बताया कि वह मुफलिसी से लड़ते हुए कैसे कोख के सौदे और फिर भ्रूण हत्या के लिए तैयार हो गई।

उसने बताया कि किराए का गर्भ गिराने के बाद वह एक बार फिर से अपनी कोख को किराए पर देने के लिए तैयार थी लेकिन ऐसा करने के लिए उसे कम से कम पांच महीने रुकना पड़ता। सपना दोबारा सरोगेट मदर बनने का सोच ही रही थी कि अग्रवाल हत्याकांड ने उसे जिंदगी के एक और खतरनाक मोड़ पर खड़ा कर दिया। इस पूरे मामले में एक खास बात यह भी है कि सपना अपनी जिंदगी से परेशान जरूर है पर उसे अपने किए का कतई अफसोस नहीं है। शायद उसकी जिंदगी को मुफलिसी ने इस कदर उचाट बना दिया है कि ममता और संवेदना जैसे एहसास उसके लिए बेमतलब हो चुके हैं। एक महिला की जिंदगी क्या इतनी भी त्रासद हो सकती है कि वह कोख से जुड़ी संवेदना को भी अपनी जिंदगी के शोक के आगे हार जाए।

यह घटना औरत की जिंदगी के आगे पैदा हो रहे नए खतरों की बानगी भी है। सरोगेसी सपना के लिए शगल नहीं बल्कि उसकी मजबूरी थी। डेढ़ लाख रुपए की हाथ से जाती कमाई में से कम से कम 25 हजार उसकी अंटी में आ जाए, इसलिए गर्भ गिराने की क्रूरता को भी उसने कबूला। ...तो क्या एक महिला की संवेदना उसकी मुफलिसी के आगे हार गई या उसके संघर्ष के लिए एक पुरुष वर्चस्व वाली आर्थिक-सामाजिक स्थितियों में बहुत गुंजाइश बची ही नहीं थी। एक करोड़पति पुरुष का अपना वंश चलाने के सपने की सचाई कितने'सपनों’ को रौंदने जैसी है, यह समझना जरूरी है। सपना नवीन झा के मामले में पहली नजर में यह संवेदना दांव पर हारती दिखती है।

 

advertisement

  • संबंधित खबरें