राफेल केस की जांच हो या नहीं, सुप्रीम कोर्ट ने फैसला रखा सुरक्षित, सरकार ने कीमत को लेकर दी ये दलील     |       केपाटन से मंत्री बाबूलाल वर्मा का टिकट कटा, चंद्रकांता मेघवाल को मौका     |       डोनाल्ड ट्रंप ने कहा- मैं प्रधानमंत्री मोदी का बहुत सम्मान करता हूं     |       मोदी ने वैश्विक नेताओं से की मुलाकात, अमेरिकी उपराष्ट्रपति को दिया भारत आने का न्योता     |       बयान से पलटे शाहिद आफरीदी, कहा- कश्मीर में भारत कर रहा जुल्म     |       इसरो / जीसैट-29 का सफल प्रक्षेपण, 2020 तक गगनयान के तहत पहला मानव रहित मिशन शुरू होगा     |       अजय चौटाला को इनेलो से निष्कासित किए जाने सहित दिन के 10 बड़े समाचार     |       आज से शुरू हो रही है रामायण एक्सप्रेस ट्रेन     |       केंद्र ने लौटाया पश्चिम बंगाल का नाम बदलने का प्रस्ताव, ममता नाराज     |       जिलेभर में स्कूल-हॉस्पिटल-क्लब व संगठनों ने बच्चों के बीच मनाया पं. नेहरू का जन्मदिन और बाल दिवस     |       उगते सूर्य से मांगा जीवन में नया सवेरा     |       संसद का शीतकालीन सत्र 11 दिसबंर से, क्या राम मंदिर पर कानून लाएगी मोदी सरकार?     |       Srilanka : संसद में प्रधानमंत्री राजपक्षे के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पास     |       अयोध्या में RSS की रैली, इकबाल अंसारी बोले- छोड़ देंगे अयोध्या     |       हवा की गुणवत्ता कुछ बेहतर, पराली जलाने की घटना हुई कम     |       एक दिवसीय बिहार दौरे पर आज आएंगे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद     |       अखिलेश का BJP पर तंज- तरक्की के रुके रास्ते, बदल रहे बस नाम     |       सेना और DRI ने जम्मू से भारी मात्रा में बरामद किए हथियार और गोला-बारूद     |       सबरीमला: तृप्ति देसाई 17 नवंबर को जाएंगी मंदिर, पीएम मोदी से मांगी सुरक्षा     |       रालोसपा नेता की गोली मार कर हत्या, उपेंद्र कुशवाहा ने साधा नीतीश सरकार पर निशाना     |      

राज्य


तमिल साप्ताहिक 'नक्कीरन' के संपादक गिरफ्तार, लेकिन कुछ ही घंटे बाद रिहा, राज्यपाल का अपमान करने वाले लेख प्रकाशित करने का आरोप

"लेखों में राजभवन का संबंध एक असिस्टेंट प्रोफेसर निर्मला देवी से बताया गया है। निर्मला को मदुरै कामराज विश्वविद्यालय के अधिकारियों के पास कथित रूप से कॉलेज में पढ़ने वाली लड़कियां भेजने के आरोप में कुछ समय पहले गिरफ्तार किया गया था"


tamil-weekly-nakkeeran-editor-arrested-then-released-on-courts-order-after-few-hours

वरिष्ठ पत्रकार और साप्ताहिक तमिल पत्रिका नक्कीरन के संपादक आरआर गोपाल को मंगलवार को चेन्नई हवाई अड्डे पर गिरफ्तार कर लिया गया। लेकिन कुछ ही घंटे बाद अदालत के आदेश पर पुलिस को उन्हें छोड़ना पड़ा।    

कुछ अधिकारियों ने बताया कि पत्रिका ‘नक्कीरन’ के संपादक आर. गोपाल ने एक कालेज शिक्षिका से जुड़े सेक्स घोटाले पर कई लेख लिखे हैं।

इस गिरफ्तारी की विभिन्न राजनीतिक पार्टियों ने निंदा की थी। 'नक्कीरन गोपाल' के नाम से मशहूर आरआर गोपाल को राजभवन की शिकायत पर गिरफ्तार किया गया है। राजभवन ने नक्कीरन पर राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित का अपमान करने वाले लेख प्रकाशित करने का आरोप लगाया है।

लेखों में राजभवन का संबंध एक असिस्टेंट प्रोफेसर निर्मला देवी से बताया गया है। निर्मला को मदुरै कामराज विश्वविद्यालय के अधिकारियों के पास कथित रूप से कॉलेज में पढ़ने वाली लड़कियां भेजने के आरोप में कुछ समय पहले गिरफ्तार किया गया था।

पुलिस द्वारा गोपाल से मिलने की अनुमति नहीं देने पर चिंताद्रिपेट पुलिस स्टेशन के बाहर प्रदर्शन कर रहे एमडीएमके नेता वाइको को गिरफ्तार कर लिया गया।

वाइको ने न्यायपालिका और पुलिस के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करने वाले भाजपा नेता एच. राजा को गिरफ्तार नहीं करने का कारण बताने की मांग की। एमडीएमके नेता ने कहा कि गोपाल को गिरफ्तार कर भाजपा मीडिया की स्वतंत्रता को दबाने की कोशिश कर रही है। 

द्रमुक अध्यक्ष एमके स्टालिन ने मोदी सरकार और तमिलनाडु के राज्यपाल पर राज्य में अघोषित आपातकाल लागू करने का आरोप लगाया। स्टालिन ने कहा कि राज्य सरकार केंद्र के कहने पर चल रही है। उन्होंने गोपाल की रिहाई और उनके खिलाफ लगे सभी मामले निरस्त करने की मांग की।

पीएमके के संस्थापक एस. रॉमदास ने कहा कि लेख अगर अपमानजनक थे तो अवमानना का मामला दायर किया जा सकता था। गोपाल की गिरफ्तारी की निंदा अभिनेता से नेता बने कमलहासन ने भी की।

advertisement