जम्मू-कश्मीर पर आजाद और सोज के बयानों पर आमने-सामने आईं भाजपा और कांग्रेस     |       जम्मू-कश्मीर: सुरक्षाबलों ने इस्लामिक स्टेट के सरगना समेत 4 आतंकियों को किया ढेर…     |       ममता चाहती थीं नेताओं से बैठकें, चीन ने नहीं दी मंजूरी तो रद्द किया दौरा     |       ईद पर 100 युवकाें से गले मिलने वाली लड़की काे लेकर एक आैर बड़ा खुलासा     |       वडोदरा के स्कूल में 9वीं के छात्र की हत्या, पुलिस को सीनियर पर शक     |       जेटली का राहुल गांधी पर वार- मानवाधिकार संगठनों के प्रति बढ़ रही है उनकी सहानुभूति     |       दाती महाराज की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं, रात्रि में चरण सेवा के नाम पर लड़कियों को बुलाता था     |       कांग्रेस ने नोटबंदी को बताया आजाद भारत का सबसे बड़ा घोटाला, पीएम से मांगा जवाब     |       अमरनाथ यात्रा की तैयारियां पूरी, यात्रा शांतिपूर्वक होगी: राज्यपाल     |       नीरव मोदी के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी कर सकता है इंटरपोल     |       ED की माल्या को भगोड़ा घोषित करने की पहल, जब्त होगी संपत्ति     |       शौहर ने दी धमकी-तू बैंक गई तो तीन तलाक पक्का, बीवी ने नहीं मानी बात, फिर...     |       सोनिया गांधी से मिलने पहुंचीं सपना चौधरी, कहा- कांग्रेस के लिए कर सकती हूं प्रचार     |       कश्‍मीर में ऑपरेशन ऑल आउट: सबसे खूंखार 22 आतंकियों की लिस्‍ट जारी, एक को किया ढेर     |       बड़ा फैसला: नोएडा के सेक्टर-123 से हटाया जाएगा डंपिंग ग्राउंड     |       अरुण जेटली ने ब्लॉग में राहुल पर किया तीखा हमला, पूछा- कौन है मानवाधिकारों का दुश्मन?     |       शिवपाल यादव की अखिलेश को नसीहत, बड़ों की बात मानते तो दोबारा सीएम बनते     |       2019 चुनाव से पहले कांग्रेस के अंदर बड़ा फेरबदल, खड़गे को महाराष्ट्र की जिम्मेदारी     |       झारखंड HC ने लालू यादव की अंतरिम जमानत तीन जुलाई तक बढ़ाई     |       हापुड़ लिंचिंग: घायल को अमानवीय तरीके से ले जाने पर यूपी पुलिस ने मांगी माफ़ी     |      

संपादकीय


विपक्षियों का यह जुटान भविष्य की राजनीति में बड़े  बदलाव का प्रस्थानबिंदु हो सकता है

 यह तय है कि 2019 के चुनावों में विपक्ष बिखरा हुआ नहीं रहेगा और यह विपक्षी  एकता भाजपा के मंसूबों पर पानी फेरने का काम कर सकती है


this-mobilization-of-opposition-can-be-a-departure-for-big-changes-in-future-politics

शपथ ग्रहण के बाद अब विश्वास मत  की बारी है, विपक्षी मजबूत हैं पर पर शायद वे ऐसा कोई काम न करें जिससे जो शर्मिंदगी उन्हें झेलनी पड़ी है। उसमें और इजाफ हो इसलिये सरकार का बच जाना और बन जाना मुमकिन दीखता है। यह सरकार अपनी उम्र पूरी करती है या नहीं बहस का विषय अब यह नहीं है और है भी तो यह छोटा मामला है। बड़ी बात यह कि इस शपथ ग्रहण समारोह  के दौरान विपक्षी एकता  का जो मेगा शो दिखा वह भविष्य की राजनीति की बड़ी तस्वीर पेश करता है।

इस विपक्षी मोर्चे या संगठन की अगुवाई कौन करेगा, क्या राहुल गांधी के नाम पर सहमति बन सकेगी या फिर मायावती,  ममता को सभी स्वीकारेंगे, या फिर नवीन पटनायक या चंद्रबाबू जैसा चेहरा उभर कर सामने आयेगा, कौन सी क्षेत्रीय पार्टी अपने बंटवारे में कितने सीटों पर चुनाव लड़ेगी, उन राज्यों का क्या होगा, जहां कांग्रेस का मुकाबला  बीजेपी की बजाये अपने साथ आयी क्षेत्रीय पार्टी से होता आया है। इस तरह के बहुतेरे सवाल आमने हैं, भाजपा इनकी आड़ लेकर सत्ता पक्ष  से दूर जाने वाले मतदातओं को अपनी तरफ करने की कोशिश कर सकती है।

प्रधानमंत्री मोदी  अपने भाषणों में इंदिरा गांधी के तरह यह अपील कर सकते हैं कि मेरा नारा है देश से भ्रष्टाचार और बेरोजगारी हटाओ  जबकि विपक्ष का एकमात्र नारा है मोदी हटाओ। भाजपा यह साबित करने का प्रयास करेगी कि सभी मिल कर एक अकेले मोदी को हराने की साजिश कर रहे हैं, जो देश के लिये दिलो जान से कुर्बान हैं। यह भावनात्मक अपील  बहुत असरकारक हो सकती है पर इसको संयुक्त विपक्ष  से कड़ी चुनौती मिलेगी।

गोरखपुर और फूलपुर इसके उदाहरण हैं जहां भाजपा अधिक मत प्रतिशत ले कर भी हारी। चुनावी गणित यह कहता है कि भाजपा के लिये तकरीबन 200 सीटों पर मुसीबत बढ सकती है। कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण समारोह में भले चंद्रशेखर और स्टालिन न आ सके पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, संप्रग अध्यक्ष मां सोनिया गांधी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, चंद्रबाबू नायडू, अरविंद केजरीवाल और पिनाराई विजयन ,तेजस्वी यादव, फारूक अब्दुल्ला, मायावती और अखिलेश यादव और इसके अलावा जो अन्य  नेता इकट्ट्ठा हुये, जिनका समर्थन मिला अगर उनके द्वारा प्रभावित सीटों की गणना की जाये तो यह आंकड़ा 300 तक पहुंचता है।

विपक्षी एकता की यह तस्वीर भाजपा  के लिये हौलनाक साबित हो सकती है। सामूहिक विपक्ष की इस बड़ी चुनौती  को भाजपा जुमलों से पार पा लेगी या फिर खोखले दावों से तो यह उसकी खुशफहमी ही कही जायेगी। निस्संदेह भाजपा को अब सत्ता बचाने के लिये सघन तैयारी  करनी होगी और विपक्ष को अपनी एका बढाने की, भाजपा अपनी तैयारी पहले ही आरंभ कर चुकी है। विपक्षी एकता की  शुरुआत अब से मानी जानी चाहिये।

advertisement

  • संबंधित खबरें