सबरीमाला मंदिर: कपाट खुले पर महिलाएं रोकी गई, बवाल के बाद धारा-144 लागू     |       #MeToo की भेंट चढ़े मोदी के मंत्री एमजे अकबर, विदेश राज्यमंत्री पद से इस्तीफा     |       मारवाड़ में कांग्रेस और मानवेंद्र बिगाड़ सकते हैं भाजपा का खेल     |       गुरुद्वारा / दान देने के लिए राहुल ने 500 रुपए निकाले, ज्योतिरादित्य ने आचार संहिता याद दिलाई तो जेब में रखे     |       मेरठ / जासूसी के आरोप में आर्मी इंटेलीजेंस ने सेना के जवान को किया गिरफ्तार     |       छठ-दिवाली के दौरान Indian Railway का यात्रियों को तोहफा, चलेंगी ये 9 स्पेशल ट्रेनें     |       सूर्य देव कर रहे हैं तुला राशि में प्रवेश, इन राशियों पर होगा असर     |       लालू का ट्वीट-गुजरात में लुंगी पहनने वाले बिहारियों को पीटा, ये है न्यू इंडिया     |       माया के बंगले में घुसते ही शिवपाल बोले- अखिलेश की हैसियत पता चलेगी     |       हाेटल के बाहर गन लहराने वाले पूर्व सांसद के बेटे के खिलाफ गैर जमानती वारंट     |       रिपोर्ट / ब्रह्मोस से ज्यादा ताकतवर चीनी मिसाइल खरीदने की तैयारी में पाकिस्तान     |       FIR March: सपा नेता आजम के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराने पहुंचे अमर सिंह     |       चुनाव / कांग्रेस ने मध्यप्रदेश विधानसभा के लिए 80 उम्मीदवार तय किए, लिस्ट जारी नहीं की     |       Paytm, MobiKwik और दूसरे मोबाइल वॉलेट यूजर्स के लिए खुशखबरी, अब कर पाएंगे ये काम     |       इन दो वजहों से पूरी दुनिया में घंटे भर ठप रहा YouTube     |       कभी अकबर ने बदला था नाम, इलाहाबाद को 450 वर्षों बाद मिला अपना पुराना नाम     |       पीएनबी घोटाला / मेहुल चौकसी और अन्य आरोपियों की 218 करोड़ रुपए की संपत्ति अटैच     |       कश्मीर / श्रीनगर में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में 3 आतंकी ढेर, पुलिस का जवान शहीद     |       छत्तीसगढ़: बख्तरबंद गाड़ी ने कार को घसीटा, मुश्किल में पड़ी परिवार की जान     |       ओला ड्राइवर की मदद से इस तरह पकड़ा गया मॉडल मानसी दीक्षित का कातिल     |      

संपादकीय


विपक्षियों का यह जुटान भविष्य की राजनीति में बड़े  बदलाव का प्रस्थानबिंदु हो सकता है

 यह तय है कि 2019 के चुनावों में विपक्ष बिखरा हुआ नहीं रहेगा और यह विपक्षी  एकता भाजपा के मंसूबों पर पानी फेरने का काम कर सकती है


this-mobilization-of-opposition-can-be-a-departure-for-big-changes-in-future-politics

शपथ ग्रहण के बाद अब विश्वास मत  की बारी है, विपक्षी मजबूत हैं पर पर शायद वे ऐसा कोई काम न करें जिससे जो शर्मिंदगी उन्हें झेलनी पड़ी है। उसमें और इजाफ हो इसलिये सरकार का बच जाना और बन जाना मुमकिन दीखता है। यह सरकार अपनी उम्र पूरी करती है या नहीं बहस का विषय अब यह नहीं है और है भी तो यह छोटा मामला है। बड़ी बात यह कि इस शपथ ग्रहण समारोह  के दौरान विपक्षी एकता  का जो मेगा शो दिखा वह भविष्य की राजनीति की बड़ी तस्वीर पेश करता है।

इस विपक्षी मोर्चे या संगठन की अगुवाई कौन करेगा, क्या राहुल गांधी के नाम पर सहमति बन सकेगी या फिर मायावती,  ममता को सभी स्वीकारेंगे, या फिर नवीन पटनायक या चंद्रबाबू जैसा चेहरा उभर कर सामने आयेगा, कौन सी क्षेत्रीय पार्टी अपने बंटवारे में कितने सीटों पर चुनाव लड़ेगी, उन राज्यों का क्या होगा, जहां कांग्रेस का मुकाबला  बीजेपी की बजाये अपने साथ आयी क्षेत्रीय पार्टी से होता आया है। इस तरह के बहुतेरे सवाल आमने हैं, भाजपा इनकी आड़ लेकर सत्ता पक्ष  से दूर जाने वाले मतदातओं को अपनी तरफ करने की कोशिश कर सकती है।

प्रधानमंत्री मोदी  अपने भाषणों में इंदिरा गांधी के तरह यह अपील कर सकते हैं कि मेरा नारा है देश से भ्रष्टाचार और बेरोजगारी हटाओ  जबकि विपक्ष का एकमात्र नारा है मोदी हटाओ। भाजपा यह साबित करने का प्रयास करेगी कि सभी मिल कर एक अकेले मोदी को हराने की साजिश कर रहे हैं, जो देश के लिये दिलो जान से कुर्बान हैं। यह भावनात्मक अपील  बहुत असरकारक हो सकती है पर इसको संयुक्त विपक्ष  से कड़ी चुनौती मिलेगी।

गोरखपुर और फूलपुर इसके उदाहरण हैं जहां भाजपा अधिक मत प्रतिशत ले कर भी हारी। चुनावी गणित यह कहता है कि भाजपा के लिये तकरीबन 200 सीटों पर मुसीबत बढ सकती है। कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण समारोह में भले चंद्रशेखर और स्टालिन न आ सके पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, संप्रग अध्यक्ष मां सोनिया गांधी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, चंद्रबाबू नायडू, अरविंद केजरीवाल और पिनाराई विजयन ,तेजस्वी यादव, फारूक अब्दुल्ला, मायावती और अखिलेश यादव और इसके अलावा जो अन्य  नेता इकट्ट्ठा हुये, जिनका समर्थन मिला अगर उनके द्वारा प्रभावित सीटों की गणना की जाये तो यह आंकड़ा 300 तक पहुंचता है।

विपक्षी एकता की यह तस्वीर भाजपा  के लिये हौलनाक साबित हो सकती है। सामूहिक विपक्ष की इस बड़ी चुनौती  को भाजपा जुमलों से पार पा लेगी या फिर खोखले दावों से तो यह उसकी खुशफहमी ही कही जायेगी। निस्संदेह भाजपा को अब सत्ता बचाने के लिये सघन तैयारी  करनी होगी और विपक्ष को अपनी एका बढाने की, भाजपा अपनी तैयारी पहले ही आरंभ कर चुकी है। विपक्षी एकता की  शुरुआत अब से मानी जानी चाहिये।

advertisement