सावधानः निपाह की आशंका से दिल्ली-एनसीआर में भी अलर्ट, केरल से आने वाले केले धोकर खाएं     |       न्यूज टाइम इंडिया : बुधवार को कुमारास्वामी लेंगे सीएम पद की शपथ     |       शिवसेना अफजल खान का काम कर रही है: योगी     |       प्रेस रिव्यू: मानव ढाल बनाने वाले मेजर गोगोई से महिला को लेकर पूछताछ     |       वैष्णो देवी पर्वत पर लगी भीषण आग, यात्रा में जाने के सभी मार्ग बंद     |       इंटरनेशनल बॉर्डर के बाद LoC पर भी PAK की फायरिंग, नौशेरा में एक घायल     |       अमेरिकी बाजार की स्थिरता का असर भारतीय शेयर बाजार पर, हरे निशान के साथ खुले बाजार     |       तूतीकोरिन में धारा 144 लागू, प्लांट बंद होने से 32500 नौकरियों पर चली कुल्हाड़ी     |       पीएम मोदी ने कबूल किया विराट का फिटनेस चैलेंज, कहा- जल्द जारी करूंगा वीडियो     |       वीडियो: कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण में क्यों भड़क गईं सीएम ममता     |       शादी के लिए 15 लड़कों के प्रस्ताव पसंद आए गीता को, लेकिन कहा- पहले माता-पिता ढूंढो     |       चीन में अमेरिकी कर्मचारी कर रहे असामान्य आवाज का सामना     |       अश्लील सीडी मामले में छत्तीसगढ़ कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल से पूछताछ     |       यूपी एटीएस ने आईएसआई एजेंट को उत्तराखंड से किया गिरफ्तार, रिमांड पर लखनऊ लाया जा रहा जासूस     |       गंगा दशहरा 2018: जान तो लीजिए क्यों मनाते हैं यह पर्व     |       यूपी: पेंशन लेने के लिए मां की लाश को चार महीने तक घर में छिपाए रखा     |       बीजेपी के 13 और व‍िधायकों को धमकी, दाउद के गुर्गों का नाम सामने आया     |       मार्च तक सात महीने में 39 लाख रोजगार के अवसरों का सृजन : ईपीएफओ आंकड़े     |       गर्मी का कहर : हरियाणा, राजस्थान और पश्चिमी उत्तरप्रदेश में रेड अलर्ट जारी     |       पैरंट्स का 750 करोड़ है प्राइवेट स्कूलों की जेब में     |      

विदेश


अमेरिकी रक्षा मंत्री ने कहा- ईरान परमाणु समझौता राष्ट्रीय हित में

मैटिस ने मंगलवार को सीनेट में कहा कि  यदि हम यह पुष्टि कर सकते हैं कि ईरान समझौते पर अमल कर रहा है और इसके साथ ही  हम यह निर्धारित कर सकते हैं कि इसमें हमारा सर्वोत्तम हित है तो स्पष्ट रूप से हमें इस समझौते के साथ रहना चाहिए। 


us-defence-secretary-breaks-trump-iran-nuclear-deal

वाशिंगटनः अमेरिका का ईरान और छह विश्व शक्तियों के बीच हुए परमाणु समझौते में बने रहना उसके राष्ट्रीय हित में है। यह बातें अमेरिकी रक्षा मंत्री जिम मैटिस ने कही हैं। हालांकि मैटिस की यह टिप्पणी ऐसे समय में आई है, जब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ओबामा प्रशासन के दौरान हुए इस समझौते से अलग होने या न होने की उधेड़बुन में लगे हुए हैं। 

मैटिस ने मंगलवार को सीनेट में कहा कि  यदि हम यह पुष्टि कर सकते हैं कि ईरान समझौते पर अमल कर रहा है और इसके साथ ही  हम यह निर्धारित कर सकते हैं कि इसमें हमारा सर्वोत्तम हित है तो स्पष्ट रूप से हमें इस समझौते के साथ रहना चाहिए।  मैटिस का कहना है कि राष्ट्रपति को इस समझौते के साथ बने रहने पर विचार करना चाहिए।

बता दें कि एक दशक तक लंबी वार्ता के बाद ईरान और छह विश्व शक्तियों- अमेरिका, ब्रिटेन, चीन, फ्रांस, जर्मनी और रूस के बीच जुलाई 2015 में यह समझौता हुआ था।  इस समझौते में बने रहना क्या अमेरिका के राष्ट्रीय हित में है, इस बारे में पूछे जाने पर मैटिस ने 'हां' में जवाब दिया। 

मैटिस की यह टिप्पणी संयुक्त राष्ट्र महासभा में पिछले महीने ट्रंप के भाषण से बिलकुल विपरीत प्रतीत हो रही है। ट्रंप ने अपने भाषण में समझौते को उलझन भरा कहा था और इससे अलग होने के संकेत भी दिए थे।  वहीं ईरानी नेताओं ने ट्रंप की टिप्पणी पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा था कि ईरान ऐसे शत्रुतापूर्ण शब्दों से नहीं डरने वाला है। 

advertisement