कांग्रेस के 38 उम्मीदवारों की लिस्ट; भोपाल से दिग्विजय, तो गुलबर्गा से खड़गे चुनावी मैदान में - Hindustan     |       Lok Sabha Election 2019: Sapna Choudhary कांग्रेस में हुईं शामिल, इस सीट से लड़ सकती हैं चुनाव - NDTV India     |       ऐसे बीता था भगत सिंह का आखिरी दिन, सजा के 1 दिन पहले दी थी फांसी - आज तक     |       भाजपा की नई लिस्ट/ मुरैना से अनूप मिश्रा की जगह नरेंद्र तोमर चुनाव लड़ेंगे; शांता कुमार, करिया मुंडा का टिकट कटा - Dainik Bhaskar     |       Loksabha Election 2019 :अखिलेश यादव ने कहा- पीएम मोदी तय नहीं कर पर रहे डगर - दैनिक जागरण     |       Lok Sabha Election 2019: झारखंड BJP के 10 उम्‍मीदवारों की घोषणा, अर्जुन मुंडा को टिकट - दैनिक जागरण     |       बिहार में NDA उम्मीदवारों का ऐलान, बेगूसराय से गिरिराज को टिकट Lok Sabha polls: NDA releases Bihar candidates list - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       नीरव मोदी के बाद विजय माल्‍या पर कसता शिकंजा अदालत ने दिया ये बड़ा आदेश - Zee News Hindi     |       'उत्तर कोरिया से प्रतिबंध हटाने' के ट्रंप के ट्वीट से पैदा हुई भ्रम की स्थिति - BBC हिंदी     |       ट्रंप के चुनाव में रूस के कथित दखल की जांच पूरी - BBC हिंदी     |       कांग्रेस का PM पर निशाना: मोदी जी, पाकिस्तान को चोरी-छुपे लव लेटर लिखना बंद करें - NDTV India     |       अमेरिकाः स्कूल फायरिंग में जान बचाने वाली युवती ने की खुदकुशी - आज तक     |       Karnataka Bank reports Rs 13 crore fraud to RBI - Times Now     |       Airtel और Vodafone ने रिवाइज किया 169 रु का प्लान, जानें क्या Jio के 149 रु से है बेहतर - दैनिक जागरण     |       Hyundai QXi का टीजर आया सामने, विटारा ब्रेजा को देगी टक्कर - नवभारत टाइम्स     |       नई Suzuki Ertiga Sport हुई पेश, यहां जानें खास बातें - आज तक     |       Box Office Collection: दर्शकों पर चढ़ा 'केसरी' का रंग, 2 दिन में कमाए इतने करोड़ - Hindustan     |       पीएम मोदी की बायोपिक के पोस्टर पर जावेद अख्तर हुए थे हैरान, अब फिल्म के प्रोड्यूसर ने दिया यह जवाब - NDTV India     |       वो पांच ब्लॉकबस्टर फिल्में जिन्हें ठुकरा चुकी हैं कंगना रनौत - आज तक     |       VIDEO: पीएम नरेंद्र मोदी का पहला गाना रिलीज इमोशनल कर देगा सौगंध मुझे इस मिट्टी की - Zee News Hindi     |       IPL 2019: Ahead of RCB opener vs CSK, Virat Kohli gives fitting reply to Gautam Gambhir's 'captaincy' jibe - Times Now     |       IPL 2019: विराट-डिविलियर्स को आउट कर बहुत खुश हूं: हरभजन सिंह - Navbharat Times     |       IPL आगाज से पहले धौनी ने जड़ा ऐसा सिक्स, स्टेडियम की छत पर पहुंचाई गेंद- VIDEO - Hindustan     |       IPL 2019: चेन्नई के खिलाफ मैदान पर उतरते ही विराट ने रचा इतिहास, कमाल का रिकॉर्ड अपने नाम किया - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |      

राजनीति


रिजवी ने कहा- यूपी के मंत्री रजा का बयान राम मंदिर निर्माण में बाधा

रिजवी ने कहा कि शिया वक्फ बोर्ड द्वारा अयोध्या स्थित राम मंदिर को लेकर उच्च न्यायालय में मंदिर के पक्ष में जो हलफनामा दाखिल किया गया है, उससे कुछ कट्टरपंथी मुस्लिम संस्थाएं व धर्मगुरु घबराए हुए हैं।


wasim-rizvi-bjp-minister-raza-statement-against-ram-temple

लखनऊः शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी ने उत्तर प्रदेश के वक्फ राज्यमंत्री मोहसिन रजा पर अयोध्या में राम मंदिर निर्माण में बाधा पहुंचाने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि राज्यमंत्री का कहना है कि वर्तमान में शिया वक्फ कुल वक्फों की संख्या से 15 प्रतिशत कम है, इसलिए शिया व सुन्नी दोनों बोर्डो को एक कर दिया जाएगा, जानकारी के अभाव में दिया गया बयान है।

रिजवी ने कहा कि शिया वक्फ बोर्ड द्वारा अयोध्या स्थित राम मंदिर को लेकर उच्च न्यायालय में मंदिर के पक्ष में जो हलफनामा दाखिल किया गया है, उससे कुछ कट्टरपंथी मुस्लिम संस्थाएं व धर्मगुरु घबराए हुए हैं। ये सभी बाबरी मस्जिद के पैरोकार हैं। इसी तरह के कुछ धर्मगुरुओं के संपर्क में वक्फ राज्यमंत्री हैं। उन्होंने कहा कि राज्यमंत्री का ऐसा आपत्तिजनक बयान राम मंदिर के निर्माण में बाधा उत्पन्न करने की साजिश लगती है। राज्यमंत्री रजा पहले भी कम मालूमात होने के कारण अवैधानिक कार्यवाही करके सरकार की किरकिरी करा चुके हैं।

रिजवी ने बताया कि वर्ष 1941 में शिया और सुन्नी वक्फ बोर्ड का अलग-अलग गठन हुआ था। जिस वक्त दोनों बोर्ड बनाए गए थे, उस वक्त शिया वक्फ बोर्ड में पंजीकृत वक्फ प्रदेश के कुल वक्फों से 15 प्रतिशत अधिक थे, जिस कारण प्रदेश में शिया वक्फ बोर्ड का अलग गठन हुआ था और आज तक शिया वक्फ बोर्ड और सुन्नी वक्फ बोर्ड अलग-अलग हैं। रिजवी ने कहा कि वास्तव में वक्फ अधिनियम के अनुसार सिर्फ वक्फ की संख्या को नहीं, बल्कि वक्फों की कुल आय को भी आधार बनाया गया है। प्रदेश के समस्त मुस्लिम वक्फों की कुल आय में शिया वक्फों की 15 प्रतिशत से अधिक आय है, जिस कारण प्रदेश में शिया व सुन्नी वक्फ बोर्ड एक नहीं किए जा सकते। 

उन्होंने बताया कि मौजूदा वक्फ बोर्डो का गठन वर्ष 2015 में पांच वर्ष की कार्य अवधि के लिए किया जा चुका है, जिसका कार्यकाल वर्ष 2020 तक है। वक्फ अधिनियम के अनुसार वक्फ बोर्डो को भंग करने का कोई प्राविधान नहीं है। 

advertisement