ममता की बंगाल सरकार और चंद्र बाबू की आंध्र सरकार ने CBI को जांच से रोका     |       लखनऊ से उलटे पांव लौटे पीयूष गोयल, भाषण से नाराज लोगों ने की नारेबाजी     |       NDTV से बोलीं मायावती, न BJP के साथ जाएंगे, न कांग्रेस के साथ, एक सांपनाथ, एक नागनाथ     |       रालोसपा की बैठक शनिवार को पटना में, बड़ी घोषणा की अटकलें     |       दिल्ली / 13 दिन बंद रहेगा आईजीआई एयरपोर्ट का एक रनवे, 86% तक बढ़ा फ्लाइट्स का किराया     |       पंजाब में दिखा 12 लाख का इनामी आतंकी, जम्मू-कश्मीर सहित दोनों राज्यों में हाई अलर्ट     |       सीबाआई में घमासान: सीवीसी ने कहा, कुछ आरोपों पर जांच की जरूरत     |       Sabrimala: मंदिर के पट खुले, महिलाओं के प्रवेश पर गतिरोध और तनाव कायम     |       बिहार बोर्ड परीक्षा 2019: छह फरवरी से इंटर, 21 फरवरी से होगी मैट्रिक की परीक्षा     |       तमिलनाडु में गाजा तूफान से 13 लोगों की मौत, PM ने ली जानकारी     |       सिंगर टीएम कृष्‍णा को अब आप सरकार देगी कॉन्‍सर्ट के लिए मंच, दिल्ली में स्थगित हुआ था कार्यक्रम     |       आरबीआई के अहम फैसलों में बड़ी भागीदारी चाहती है सरकार     |       सियासत / मोदी का ज्योतिरादित्य पर तंज- कांग्रेस के सर्वेसर्वा से पूछो कि आपकी दादी को जेल में क्यों रखा?     |       यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य को मिली जमानत, दुर्गा पूजा के नाम पर फर्जी पैड छपवाकर वसूली का मामला     |       मेक इन इंडिया की सौगात, देश की पहली T-18 ट्रेन ट्रायल के लिए पहुंची मुरादबाद     |       MP चुनावः वरिष्ठ BJP नेता ने कहा- चुनाव नहीं होते, तो पार्टी MLA के तोड़ देता दांत     |       फेसबुक ने हटाए 1.5 अरब अकाउंट्स, जानिए क्यों?     |       मालदीव में आज पीएम मोदी की यात्रा से भारत को मिला पैर जमाने का मौका     |       वाराणसी / डॉक्टर ने जहर का इंजेक्शन लगाकर की खुदकुशी, सुसाइड नोट में लिखा- बेटा हत्या करना चाहता है     |       पूर्व मंत्री मंजू वर्मा के खिलाफ कोर्ट ने दिया कार्रवाई का आदेश     |      

संपादकीय


विधानसभा चुनावों को क्यों न मानें अर्थव्यव्सथा पर जनमत संग्रह!

बहरहाल, बात करें दो राज्यों के विधानसभा चुनावों पर तो यह तो मानना ही पड़ेगा कि नोटबंदी और जीएसटी के बाद जनता का मूड भांपने का बड़ा अवसर है। केंद्र सरकार के दोनों फैसलों से देशभर के लोग प्रभावित हुए


why-not-consider-assembly-elections-in-referendum-on-economy

हिमाचल प्रदेश नई विधानसभा चुनने के लिए पोलिंग बूथों के आगे कतार में खड़ा है। इसके बाद गुजरात में विधानसभा चुनाव होंगे। दिलचस्प है कि इन दोनों चुनावों का उनसे जुड़े राज्यों की राजनीति से ज्यादा देश की आर्थिक-राजनीतिक स्थिति पर प्रभाव पड़ने वाला है। भारत में किसी मुद्दे पर रेफरेंडम लेने की कोई व्यवस्था नहीं है। पर देश में जब-तब चुनाव होते रहते हैं और इसे ही उस समय के अहम सवालों पर रेफरेंडम मान लिया जाता है। कायदे से एेसा मानना पूरी तरह सही नहीं है क्योंकि हर चुनाव के अपने संदर्भ और मुद्दे होते हैं।

बहरहाल, बात करें दो राज्यों के विधानसभा चुनावों पर तो यह तो मानना ही पड़ेगा कि नोटबंदी और जीएसटी के बाद जनता का मूड भांपने का बड़ा अवसर है। केंद्र सरकार के दोनों फैसलों से देशभर के लोग प्रभावित हुए इसलिए उनके मतदान के इरादे उनके अनुभवों से जरूर प्रभावित होंगे, एेसा माना जा सकता है। अलबत्ता इसे पूरे देश की अर्थव्यवस्था पर कोई जनमत संग्रह नहीं कह सकते। इस पर चर्चा तो आगे भी अर्थ पंडितों के बीच ही होगी। मसलन निराशा से भरे लोग कह रहे हैं कि अर्थव्यवस्था वर्ष 2016 की पहली तिमाही से ही अपनी गति खो चुकी है। तब से वर्ष 2017 की दूसरी तिमाही तक वृद्धि 8.7 फीसदी से गिरकर 5.7 फीसदी पर आ चुकी है।

श्रम ब्यूरो के आंकड़े बताते हैं कि बेरोजगारी वर्ष 2011-12 के 3.8 फीसदी से उछलकर वर्ष 2015-16 तक 5.0 फीसदी पर आ गई। सन 2015-16 और 2016-17 में विनिर्मित वस्तु क्षेत्र की वृद्घि में गिरावट आई और वह 10.8 फीसदी से गिरकर 7.9 फीसदी रह गई। वहीं विनिर्माण वृद्धि दर 5.0 फीसदी से गिरकर 1.7 फीसदी हो गई। बुनियादी क्षेत्र की कई परियोजनाएं लंबित हैं। इसी तरह मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों को पसंद करने वालों की नजर में सरकार के कदम सुधारवादी हैं और इसके नतीजे आगे देखने को भी मिलेंगे। उनके मुताबिक आरबीआई ही नहीं बल्कि आईएमएफ और एडीबी जैसे बाहरी संस्थान भी अर्थव्यवस्था के अगले वर्ष 6.7-7.4फीसदी की दर से विकसित होने की बात कर रहे हैं। बीएसई-सीएमआईई के सर्वेक्षणों के मुताबिक बेरोजगारी घटी है और यह अगस्त 2016 के 9.82 फीसदी से कम होकर सितंबर 2017 में 4.47 फीसदी रह गई है। 

advertisement