RISAT-2B सैटेलाइट लॉन्च, सीमाओं की निगरानी और घुसपैठ रोकने में करेगा मदद - आज तक     |       सुप्रीम कोर्ट ने की EVM से VVPAT मिलान की एक और याचिका खारिज SC dismisses plea seeking 100% VVPAT counting - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       Exclusive: पाक का लड़ाकू विमान समझकर IAF की मिसाइल ने उड़ाया खुद का ही विमान, 6 जवान हो गए थे शहीद - NDTV India     |       जम्मू-कश्मीर में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़, दो आतंकी ढेर - News18 हिंदी     |       शिवसेना ने की राहुल-प्रियंका की तारीफ, कहा- कांग्रेस को मिल सकती हैं विपक्ष के लिए पर्याप्त सीट - अमर उजाला     |       सुषमा स्वराज बिश्केक में एससीओ बैठक में लेंगी हिस्सा - Navbharat Times     |       वोटों की गिनती से ठीक पहले अमित शाह के डिनर में एकजुट हुआ NDA, PM मोदी ने चुनाव अभियान की तुलना 'तीर्थयात्रा' से की - NDTV India     |       Exit Poll: मोदी-शाह समेत BJP के ये बड़े चेहरे जीत रहे हैं चुनाव? - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       NEWS FLASH : जम्मू-कश्मीर: कुलगाम के गोपालपुरा में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच फायरिंग - NDTV India     |       Me Too: छत्तीसगढ़ में विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक पर लगे सनसनीखेज आरोप - दैनिक जागरण     |       ईरान की ट्रंप को दो टूक- कितने आए और चले गए, बर्बादी की धमकी हमें मत देना - आज तक     |       पाकिस्तानी जनता परेशान, ब्याज दर 12.25%, जाएंगी 10 लाख नौकरियां - Business - आज तक     |       यमन के हूती विद्रोहियों ने ड्रोन से सऊदी अरब के हवाई अड्डे पर किया हमला - Navbharat Times     |       ब्रेक्ज़िट : 'सांसदों के पास डील के समर्थन का आखिरी मौका' - BBC हिंदी     |       अब इन 4 बड़े सरकारी बैंकों का होगा विलय, नई सरकार लगाएगी मुहर? - Business - आज तक     |       शेयर बाजार/ सेंसेक्स 383 अंक की गिरावट के साथ 38970 पर बंद, टाटा मोटर्स का शेयर 7% लुढ़का - Dainik Bhaskar     |       Hyundai Venue के इंजन से लेकर माइलेज तक की पूरी जानकारी यहां मिलेगी - अमर उजाला     |       गोल्ड लोन वाली कंपनी दे रही अब ये नई सुविधा, जरूरत पड़ने पर ले सकते हैं पैसे - News18 हिंदी     |       विवेक ओबेरॉय के विवादित ट्वीट पर ओमंग कुमार का रिऐक्शन, बोले- हो गया, हो गया - नवभारत टाइम्स     |       Cannes 2019: सोनम कपूर का नया लुक आया सामने, तस्वीरें देख नहीं हटा पाएंगे नजरें - Hindustan     |       'भारत' छोड़ने के बाद क्या दोबारा प्रियंका संग काम करेंगे सलमान? बताया - आज तक     |       Election Result के बाद Arjun Kapoor कपूर देंगे ‘PM Narendra Modi’ को चुनौती, इस दिन होगा घमासान - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       World Cup के इतिहास में इस टीम के प्लेयर्स ने लगाई हैं सबसे ज्यादा सेंचुरी, दूसरे नंबर पर है भारत - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       वर्ल्ड कप 2019: इंग्लैंड जाने से पहले कोहली ने देश के सामने रखा 'विराट' विजन Kohli considers World Cup 2019 as the most challenging one - Sports - आज तक     |       क्रिकेट/ इंग्लैंड की वर्ल्ड कप टीम में जोफ्रा, लियाम और विंस शामिल; विले, हेल्स और डेनली बाहर - Dainik Bhaskar     |       धोनी ने खोला राज- संन्यास लेने के बाद करना चाहते हैं यह काम - आज तक     |      

संपादकीय


विधानसभा चुनावों को क्यों न मानें अर्थव्यव्सथा पर जनमत संग्रह!

बहरहाल, बात करें दो राज्यों के विधानसभा चुनावों पर तो यह तो मानना ही पड़ेगा कि नोटबंदी और जीएसटी के बाद जनता का मूड भांपने का बड़ा अवसर है। केंद्र सरकार के दोनों फैसलों से देशभर के लोग प्रभावित हुए


why-not-consider-assembly-elections-in-referendum-on-economy

हिमाचल प्रदेश नई विधानसभा चुनने के लिए पोलिंग बूथों के आगे कतार में खड़ा है। इसके बाद गुजरात में विधानसभा चुनाव होंगे। दिलचस्प है कि इन दोनों चुनावों का उनसे जुड़े राज्यों की राजनीति से ज्यादा देश की आर्थिक-राजनीतिक स्थिति पर प्रभाव पड़ने वाला है। भारत में किसी मुद्दे पर रेफरेंडम लेने की कोई व्यवस्था नहीं है। पर देश में जब-तब चुनाव होते रहते हैं और इसे ही उस समय के अहम सवालों पर रेफरेंडम मान लिया जाता है। कायदे से एेसा मानना पूरी तरह सही नहीं है क्योंकि हर चुनाव के अपने संदर्भ और मुद्दे होते हैं।

बहरहाल, बात करें दो राज्यों के विधानसभा चुनावों पर तो यह तो मानना ही पड़ेगा कि नोटबंदी और जीएसटी के बाद जनता का मूड भांपने का बड़ा अवसर है। केंद्र सरकार के दोनों फैसलों से देशभर के लोग प्रभावित हुए इसलिए उनके मतदान के इरादे उनके अनुभवों से जरूर प्रभावित होंगे, एेसा माना जा सकता है। अलबत्ता इसे पूरे देश की अर्थव्यवस्था पर कोई जनमत संग्रह नहीं कह सकते। इस पर चर्चा तो आगे भी अर्थ पंडितों के बीच ही होगी। मसलन निराशा से भरे लोग कह रहे हैं कि अर्थव्यवस्था वर्ष 2016 की पहली तिमाही से ही अपनी गति खो चुकी है। तब से वर्ष 2017 की दूसरी तिमाही तक वृद्धि 8.7 फीसदी से गिरकर 5.7 फीसदी पर आ चुकी है।

श्रम ब्यूरो के आंकड़े बताते हैं कि बेरोजगारी वर्ष 2011-12 के 3.8 फीसदी से उछलकर वर्ष 2015-16 तक 5.0 फीसदी पर आ गई। सन 2015-16 और 2016-17 में विनिर्मित वस्तु क्षेत्र की वृद्घि में गिरावट आई और वह 10.8 फीसदी से गिरकर 7.9 फीसदी रह गई। वहीं विनिर्माण वृद्धि दर 5.0 फीसदी से गिरकर 1.7 फीसदी हो गई। बुनियादी क्षेत्र की कई परियोजनाएं लंबित हैं। इसी तरह मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों को पसंद करने वालों की नजर में सरकार के कदम सुधारवादी हैं और इसके नतीजे आगे देखने को भी मिलेंगे। उनके मुताबिक आरबीआई ही नहीं बल्कि आईएमएफ और एडीबी जैसे बाहरी संस्थान भी अर्थव्यवस्था के अगले वर्ष 6.7-7.4फीसदी की दर से विकसित होने की बात कर रहे हैं। बीएसई-सीएमआईई के सर्वेक्षणों के मुताबिक बेरोजगारी घटी है और यह अगस्त 2016 के 9.82 फीसदी से कम होकर सितंबर 2017 में 4.47 फीसदी रह गई है। 

advertisement

  • संबंधित खबरें