कर्नाटक का वो 'पेंडुलम' विधायक, जिसने दो दिनों में तीन बार पाला बदला - News18 Hindi     |       AAP से अब तक कोई गठबंधन नहीं: शीला दीक्षित बोलीं- बीजेपी और 'आप' दोनों ही हमारे लिए चुनौती - NDTV India     |       23 साल तक अरुणाचल सीएम रहे गेगांग अपांग ने बीजेपी छोड़ी, इस्‍तीफे में गिनाईं वजह - Jansatta     |       ब्रेक्जिट डील पर हार के बाद कहीं थेरेसा को पीएम की कुर्सी से भी धोना पड़ सकता है हाथ! - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       विहिप के पूर्व अध्यक्ष और उद्योगपति विष्णुहरि डालमिया का निधन, बाबरी विवाद में आ चुका है नाम- Amarujala - अमर उजाला     |       कुंभ में परिवार संग पहुंची थीं स्मृति ईरानी, खाई आलू-कचौड़ी - Kumbh 2019 - आज तक     |       Kumbh Mela 2019 Shahi Snan: Union Minister Smriti Irani takes a dip in Ganges - Times Now     |       महबूबा ने कश्मीरी आतंकियों को माटी का सपूत बताया, कहा- केंद्र उनके नेताओं से बात करे - Dainik Bhaskar     |       भारतीय मूल की इन्दिरा नूई हो सकती हैं विश्व बैंक के प्रमुख पद की दावेदार - NDTV India     |       नैरोबी के पांच सितारा होटल में आतंकी हमला, 11 लोगों की मौत - Dainik Bhaskar     |       चीन का कमाल, चांद पर बोए गए कपास के बीज, अंकुर आए- Amarujala - अमर उजाला     |       डी-कंपनी: राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल के बेटे का विदेशों में काले धन का कारख़ाना - The Wire Hindi     |       बाजार शानदार तेजी लेकर बंद, निफ्टी 10880 के पार टिका - मनी कॉंट्रोल     |       छह दिन बाद सस्ता हुआ पेट्रोल, जानिए क्या हो गए भाव - Zee Business हिंदी     |       Jio Vs BSNL: बीएसएनएल के इस प्लान में हर दिन मिलेगा 3.21 जीबी डेटा - Times Now Hindi     |       IBPS: कैलेंडर घोषित, देखें- 2019-20 में कब-कब होगी परीक्षा - आज तक     |       Manikarnika Bharat song launch: कंगना-अंकिता की बॉन्डिंग - आज तक     |       दीपिका ने कहा- सरनेम क्यों बदलूं, मैंने इंडस्ट्री में पहचान बनाने के लिए कड़ी मेहनत की है - Dainik Bhaskar     |       सेक्शुअल हैरसमेंट केस में फंसे राजू हिरानी के लिए बोले सर्किट Arshad Warsi - नवभारत टाइम्स     |       सिद्धार्थ मल्होत्रा की बर्थडे पार्टी में इसलिए नहीं पहुंचे आलिया-रणबीर - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       Australia v India Adelaide oval ODI live scores: Report, highlights, stream - Daily Telegraph     |       दूसरे वनडे में धोनी ने रचा इतिहास, ऐसा करने वाले विश्व के पहले खिलाड़ी बने - Sanjeevni Today     |       Monumental blow for Tottenham as Harry Kane injury news is revealed - Teamtalk.com     |       'It's a Serena-tard': Serena Williams unveils her latest fashion statement at Australian Open - Times Now     |      

राजनीति


सिन्हा ने कहा- जय शाह का बचाव कर सरकार ने खोया नैतिक आधार

सिन्हा ने इसके अलावा अतिरिक्त महाधिवक्ता तुषार मेहता को जय शाह का मामला लेने की अनुमति देने की भी आलोचना की। उन्होंने कहा कि इसे टाला जा सकता था और ऐसा नहीं होना चाहिए था।


yashwant-sinha-says-bjp-lost-high-moral-in-jai-shah-case

पटनाः बीजेपी के वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा ने केंद्र सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि सरकार ने पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के बेटे जय शाह पर लगे आरोपों का बचाव कर अपना उच्च नैतिक आधारा खो दिया है। हालांकि सिन्हा ने कहा कि मैं इस मामले की योग्यता पर टिप्पणी नहीं करना चाहता, क्योंकि यह जांच का विषय है। हां  मैं यह जरूर कहना चाहूंगा कि जिस तरीके से केंद्रीय मंत्री इस मामले में मैदान में कूदे हैं। वह उन्हें शोभा नहीं देता है, क्योंकि वह एक केंद्रीय मंत्री हैं, न कि जय शाह के चाटर्ड अकाउंटेंट।

सिन्हा ने इसके अलावा अतिरिक्त महाधिवक्ता तुषार मेहता को जय शाह का मामला लेने की अनुमति देने की भी आलोचना की। उन्होंने कहा कि इसे टाला जा सकता था और ऐसा नहीं होना चाहिए था। इस विशेष परिस्थिति में अतिरिक्त महाधिवक्ता को संबंधित व्यक्ति के बचाव की अनुमति दी गई है, उससे भी कई मुद्दे खड़े होते हैं और मेरी समझ से इससे भी बचना चाहिए था। पूर्व वित्तमंत्री ने कहा कि इन सब को देखते हुए कहा जा सकता है कि इतने और सालों में जो हमने उच्च नैतिक जमीन तैयार की थी, उसे अब खो दी है।

जय शाह की कंपनी ने कथित रूप से साल 2015 में 80 करोड़ रुपए का कारोबार दर्ज किया था, जबकि इसके पिछले साल कंपनी का कारोबार महज 50,000 रुपए था। सिन्हा से यह पूछा गया कि क्या इस मामले ने बीजेपी और पीएम मोदी की छवि को नुकसान पहुंचाया है। किसी भी मामले पर आपकी प्रतिक्रिया ही यह तय करती है कि आप अभी भी उच्च नैतिक जमीन रखते हैं या छोड़ चुके हैं। जिस तरीके से हमारी पार्टी और सरकार ने प्रतिक्रिया दी है। ऐसा प्रतीत होता है कि उच्च नैतिक जमीन खो चुकी है।

सिन्हा ने कहा कि मीडिया लोकतंत्र का एक महत्वपूर्ण अभिन्न अंग है। यही वजह है कि इसे चौथा स्तंभ माना जाता है। मीडिया की आवाज को प्रत्यक्ष या अन्य किसी तरीके से दबाने की कोशिश से बचा जाना चाहिए। सरकार के अर्थव्यवस्था प्रबंधन पर आरोप लगाने के बाद सिन्हा ने यह दूसरा हमला बोला है। हालांकि प्रधानमंत्री मोदी ने बाद में सफाई दी थी कि अर्थव्यवस्था पटरी पर है।

advertisement